शनिवार, 17 दिसंबर 2011

नागेश पांडेय 'संजय' का बालगीत - धूप न निकली आज

नागेश पाण्डेय
धूप न निकली आज
धूप न निकली आज,
कहीं बीमार तो नहीं?

सुबह-सुबह आ जाती थी,
इतराती-इठलाती थी,
माखन बन मुस्काती थी,
मिसरी बन शरमाती थी।

कभी आग बरसाती थी,
जो हो, मन को भाती थी।
किए बेतुके काज,
मगर हर बार तो नहीं।

कैसी कारस्तानी है,
क्यों की आनाकानी है?
ये इसकी मनमानी है,
गढ़ी हुई शैतानी है,
शैतानी बचकानी है,
या फिर और कहानी है?
मिली सूर्य से डाँट,
और फटकार तो नहीं?

धूप न निकली आज
कहीं बीमार तो नहीं।
---
- डॉ. नागेश पांडेय 'संजय'
निकट रेलवे कालोनी ,
सुभाष नगर,
शाहजहाँपुर- 242001.
(उत्तर प्रदेश, भारत)

--

5 blogger-facebook:

  1. wah bahut shaandar chinta h dhoope baare kyu nahi aayi

    उत्तर देंहटाएं
  2. wah kya kahne aapne shaandaar tarike se dhoop ki chinta ki h

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी कविता लगी आपकी. सूरज और धूप के माध्यम से आपने मौसम को बताने का प्रयास किया है, जो सफल हुआ है. मुझे अच्छी लगी आपकी कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी कविता लगी आपकी. सूरज और धूप के माध्यम से आपने मौसम को बताने का प्रयास किया है, जो सफल हुआ है. मुझे अच्छी लगी आपकी कविता.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------