बुधवार, 7 दिसंबर 2011

मालिनी गौतम की कविता - नकाब

नकाब

वो तीन-चार लड़कियाँ

हमेशा बैठतीं हैं मेरी क्लास में

सबसे पीछे की बेंच पर

तैरती रहती है उनके होठों पर

शरारत भरी मुस्कुराहट

धीरे-धीरे खुसपुस-खुसपुस करती

एक दूसरे पर झुकी हुई

दबी-दबी आवाज में हँसतीं हुई

आँखों ही आँखों में इशारे करती हुई

हरदम डालती रहती खलल

क्लास के शांत वातावरण में

जैसे ही मैं देखती उन्हें आँखें तरेर कर

उनके चेहरे पर छा जाती

एक नासमझ सी चुप्पी

उनकी आँखों में उठते वलय

कुछ ऐसे वर्तुलाकार होते कि

पल भर को मैं भी डूब जाती उनमें

मेरे क्लास से निकलते ही

बिन्दास, चप्पल फटकारते हुए

वे भी गलियारों में निकल पड़तीं

उनकी खी..खी की आवाजें

स्टाफ-रूम तक मेरा पीछा करतीं

पर कभी-कभी अचानक

अपनें कुछ शुभचिंतकों को सामनें देख

वे ठिठक जातीं

उनके होंठ सिल जाते

और आँखें नीची झुकाए

उनके हाथ सहसा व्यस्त हो जाते

हवा में उड़ते दुपट्टों कों

सिर पर ओढ़नें में

कॉलेज से घर जाते समय

मेरी नज़र

अन्य विद्यार्थियों के बीच

उन्हें ही ढूँढती रहती

पर मुझे रास्ते पर दिखाई देते

कोलतार की काली सड़कों में

घुल-मिल जाते

तीन-चार काले लबादे

जिनमें से झाँक रही होतीं

काली, भूरी, मंजरी आँखें

अपरिचित..अनजान आँखें....

जीवन रहित, पीली, निस्तेज, बेजान आँखें...

और उन आँखों को देख

मैं कभी नहीं पहचान पाती

कि उनमें से कौन है....मेहजबीन....फरहीन

......हिना के ......सुल्ताना....

--

डॉ मालिनी गौतम

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------