पुरूषोत्तम व्यास की कविता - मुस्कान

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

 

image

मुस्कान

अधरों के छोटे-से घरोंदे मे जो रहती,

अति-सुंदर सी मन को हर्षित करती,

बहुत शर्मिली-सी होती-मुस्कान ।

 

मुस्कानों-से जीवन चलता,

पथिक को अपना-पथ प्यारा लगता

संग छुटा-सबका

तुम्हारा मधु-सा संग न छूटा

पतझड़ से इस जीवन मैं

सुखद-सा एहसास करा जाती

लगती जैसे तितली-

बगिया-बगिया खुशियाँ बिखेरी थी ।

 

हर मोड़ पर जीवन के

तुमकों –ही अपना-सा पाया

प्यार जिसके ह्दय में

ढूढ़ लेगा वह-तुमकों

प्रकृति के हर-पुष्प पर,

तुम्हारी ही महक आयेगी ।

 

चंचल-चपल नयनों में,

काजल-संग तुम रहती हो,

संन्यासी के गांव में,

प्रणय-समीर बन बहती-हो

        ...... मुस्कान ।

--

ई-मेल pur_vyas007@yahoo.com

 

झामनानी निवास

डा.फजल के बाजू

क्वेटा कालोनी

नागपुर

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "पुरूषोत्तम व्यास की कविता - मुस्कान"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.