शंकर लाल कुमावत की नववर्ष कविता -प्रण करें नव नूतन वर्ष के आँगन का हर साज नया हो

प्रण करें नव नूतन वर्ष के

आँगन का हर साज नया हो

ना रहे अब धूप दु:खों की

खुशियों का आगाज नया हो

प्रण करे नव नूतन वर्ष के

आँगन का हर साज नया हो |

 

छोड़े बैर का भान पुराना

प्यार का एक नाम नया हो

नहीं पुराना राग अलापे

अब सुरों का संसार नया हो

प्रण करे नव नूतन वर्ष के

आँगन का हर साज नया हो |

 

छोड़े कुटिल चाल चलाना

अब रिश्तों का संवाद नया हो

भूल गए थे जो मर्यादा

अब उसका सम्मान नया हो

प्रण करे नव नूतन वर्ष के

आँगन का हर साज नया हो |

 

सूख गया जो, सपनों का सागर

उसमें अब बरसातों का, दौर नया हो

रो रही जो बंजर भूमि

हरयाली से उसका अब श्रृंगार नया हो

प्रण करे नव नूतन वर्ष के

आँगन का हर साज नया हो |

 

छोड़े भूलों के बाण चलाना

अब यादों का ताज नया हो

नहीं रहे कोई हीन् भावना

इस प्रण में अब प्राण नया हो

प्रण करे नव नूतन वर्ष के

आँगन का हर साज नया हो |

--

नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें

शंकर लाल

इंदौर-मध्यप्रदेश

Email: Shankar_kumawat@rediffmail.com

3 टिप्पणियाँ "शंकर लाल कुमावत की नववर्ष कविता -प्रण करें नव नूतन वर्ष के आँगन का हर साज नया हो"

  1. Behad sundar rachana!
    Naye saal kee dheron shubh kamnayen!

    उत्तर देंहटाएं
  2. छोड़े भूलों के बाण चलाना

    अब यादों का ताज नया हो

    नहीं रहे कोई हीन् भावना

    इस प्रण में अब प्राण नया हो

    प्रण करे नव नूतन वर्ष के

    आँगन का हर साज नया हो |

    अति सुन्दर

    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें
    vikram7: आ,साथी नव वर्ष मनालें......

    उत्तर देंहटाएं
  3. kabilay tareef likha hai, aap ko bahut-bahut mubarak ho ye naya saal. dr t.r. verma

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.