गुरुवार, 30 जून 2011

अनीता मिश्र की कविता - कितने दुखी हो तुम

क्‍या तुम्‍हारा दुख उससे बड़ा है ? सात साल की वो मासूम जो कचरे के ढेर से एक जोड़ी चप्‍पल मिलने पर खुश है अपनी छोटी बहन को पहना कर न...

प्रमोद भार्गव का आलेख - लड़की को लड़का बनाने की चाहत

पितृसत्तात्‍मक मानसिकता और जीव वैज्ञानिक रूढ़िवाद हमारे देश के जन-मानस में कितनी गहरी पैठ बनाए हुए है, इसका पता लिंग परिवर्तन के लिए की जा ...

विजय वर्मा की रचना - बीते हुए दिन

      बीते हुए दिन मस्तीभरी अब वो शमाँ नहीं है पहले जैसी यह जहाँ  नहीं है. ग़ुम है मतवाली कोयल की कूक साबुन,पानी,बुलबुले और फूँक . कहाँ  ...

बुधवार, 29 जून 2011

पुरुषोत्तम व्यास की कविता - अपनी कविता पढ़कर

अपनी कविता पढ़कर   अपनी कविता पढ़कर उसे याद करता भूली भूली  सी याद को फिर आंखों भरता हूँ खड़ी है अब भी वही देख रही है मुझ को ह्दय ...

मंगलवार, 28 जून 2011

संजय दानी की ग़ज़ल - मुहब्बत विरह के धूप में तपती जवानी के सिवा क्या है...

मुहब्बत तेरी मेरी कहानी के सिवा क्या है, विरह के धूप में तपती जवानी के सिवा क्या है। तुम्हारी दीद की उम्मीद में बैठा हूं तेरे दर, तुम्हारे...

मुक्त होती औरत - पुस्तक समीक्षा

समीक्षा - कथा संग्रह - मुक्‍त होती औरत - समकालीनता की दास्‍तान ‘ मुक्‍त होती औरत' समीक्षक - शीना एन. बी. स्‍वस्‍थ सामाजिक जीवन के नि...

सोमवार, 27 जून 2011

हरीश नवल की तीन व्यंग्य रचनाएँ

त्रिकोणीय न नौ मन तेल होगा न राधा नाचेगी बचपन में एक गाना सुनते थे, ‘मधुवन में राधिका नाची रे।' कितनी भली थी तब राधिका जो बिना किसी ...

शोभा रस्तोगी 'शोभा' की कविता - मेरी बिटिया

हंसती, मुस्काती , नाचती , गाती हर्षाती, इठलाती,बतियाती, मनाती कभी मनवाती कौन ...... मेरी बिटिया आंगन में खेल बड़ी हो रही रुनझुन करती, कुनम...

रविवार, 26 जून 2011

प्रमोद भार्गव का आलेख - आभासी मीडिया और क्रांति की संभावना

        पत्रकारिता के नए माध्यम आभासी (ऑन लाइन) मीडिया को क्रांति का वाहक माना जा रहा है। इसे वैकल्पिक या भविष्य का मीडिया भी कहा जा रहा है...

हरदीप कौर सन्धु की कविता - "चिड़िया - कबूतर पकड़ना"

बचपन में नन्हों की नन्हीं नन्हीं सी बातें टोकरी ले छोटी सी छड़ी से थोड़ा टेड़ा करते छड़ी को एक लम्बी  रस्सी बाँधते टोकरी के...

सुरेन्द्र अग्निहोत्री का आलेख - आपात् काल का खतरा अभी टला नहीं

(25 जून 1975 पर विशेष जब इस देश में इस काले कानून को लागू करके नागरिक अधिकारों का हनन हुआ था) ‘सिंहासन खाली करो कि जनता आती है’ (दिनकर) प...

पुस्तक समीक्षा - दिल ले दर्पण के अक्स बने "वक्त के मंज़र"

दिल ले दर्पण के अक्स बने   "वक्त के मंज़र" ग़ज़ल-संग्रह: वक़्त के मंज़र लेखक: डा॰ ब्रहमजीत गौतम अपनी ग़ज़लों के लिए अपनी ज़ुबान...

शुक्रवार, 24 जून 2011

अजय कुमार तिवारी की कविता - हम जीतेंगे

हम जीतेंगे मैने  देखा  आसमान में  खिचड़ी बँटते , हरिश्चंद्र के  चेलों को  वादों से  नटते । गाली बकते हैं जिसको  पानी पी पीकर , उसके एक इ...

नमन दत्त की ग़ज़ल

ग़ज़ल = दुनिया है बाज़ार, सुन बाबा.      हर नज़र करे व्यापार, सुन बाबा. बेमानी है एहसासों की बात यहाँ,      ख़ुदग़र्ज़ी है प्यार, सुन बाबा....

प्रमोद भार्गव का आलेख - समान शिक्षा की आदर्श मिसाल

गरीब बच्चों के साथ सरकारी स्कूल में पढ़ती है कलेक्टर की बेटी:- समान शिक्षा की आदर्श मिसाल प्रमोद भार्गव         सरकारी शिक्षा में सुधा...

बुधवार, 22 जून 2011

रचनाकार के नियमित ग्राहकों की संख्या (रेगुलर सब्सक्राइबर) 1000 से ऊपर पहुँची

हिंदी साइटों के लिए 1 हजार  की जादुई  संख्या कोई कम नहीं है. आज रचनाकार के नियमित ग्राहकों की संख्या 1007 तक पहुँच गई. नीचे स्क्रीनशॉट देखे...

मंगलवार, 21 जून 2011

दीप्ति परमार की कविताएँ - परिभाषा प्रेम की

फितरत चाहत यूं ही  मिल जाये कीमत नहीं होती जिन्दगी यूं ही मिल जाये कीमत नहीं होती । जो मिल जाये आसानी से उसे सम्हालने की फितरत नहीं होती ...

सोमवार, 20 जून 2011

संजय दानी की ग़ज़ल - मत झुकाओ नीमकश आखों को और, और कुछ दिन जीने का अरमान है।

मेरी तेरी जब से कुछ पहचान है, मुश्किलों में तब से मेरी जान है। प्यार का इज़हार करना चाहूं पर, डर का चाबुक सांसों का दरबान है। इश्क़ में दरवे...

दामोदर लाल जांगिड़ की ग़ज़ल - बस है बहस में आज के अखबार की बातें...

ग़ज़ल खूब  करली  खुद  गरज  संसार की बातें। आ  बैठ  करलें  चंद  लम्‍हें सार की बातें॥   बासी खबर बन रह गयी जिन्‍दा जली दुल्‍हन, बस है बहस में...

दिनेश पाठक ‘शशि' का व्यंग्य - आदत से लाचार'' बनाम ‘‘हम नहीं सुधरेंगे

व्‍यंग्‍य रचना- ‘‘आदत से लाचार'' बनाम ‘‘हम नहीं सुधरेंगे'' डॉ. दिनेश पाठक ‘शशि' अरे वाह! क्‍या बात करते हैं आप भी, ...

रविवार, 19 जून 2011

हिमकर श्‍याम की पितृदिवस विशेष कविता

प्रा णों पे उपकार पिता के जीवन के आधार में लयबद्ध संस्‍कार में नाम में, पहचान में झंझावतों, तूफान में प्राणों पे उपकार पिता के डांट में, फ...

दयानंद पांडेय का आलेख - अरविंद कुमार को शलाका सम्मान : एक सार्थक और प्रेरक ज़िंदगी जी है अरविंद कुमार ने

"...और अब अरविंद कुमार ने 1947 के देशभक्ति के अपने मूल मंत्र का पालन करते हुए बनाया है इंटरनेट पर ज़ारी होने वाला अनोखा अरविंद लैक्सिकन...

------------------------------------------------------------

और दिलचस्प, मनोरंजक रचनाएँ पढ़ें-

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------