सोमवार, 9 जनवरी 2012

प्रभुदयाल श्रीवास्तव की लघुकथा - आओ संसद-संसद खेलें

यह भी तो खेल है
कल रविवार था। जाहिर तौर पर अवकाश था और‌ मैं स‍ंपूर्ण आराम के मूड में था कि खाना खाकर लंबी तानकर दो चार घंटे सोऊंगा। ताकि पिछले सप्ताह अनावश्यक भागदौड़ से हुई थकावट से कुछ निजात पा सकूं। खाने के बाद लेटा ही थाकि बाहर पोर्च में बड़ी जोर जोर से लड़ने और चीखने की आवाजें आने लगीं।

घबराकर मैं बाहर भागा कि ऐसा क्या हो गया कि बच्चे अचानक चीखने लगे।


पोर्च में मेरे तीन और मोहल्ले के कोई तीन चार बच्चे जोर जोर से चीख रहे थे, कुर्सियां लेकर एक दूसरे पर झ‌पट रहे थे। कुछ बच्चे हाथों में ईंटों के टुकड़े और पत्थर लिये थे और एक दूसरे को भद्दे शब्दों से संबोधन कर रहे थे।। पोर्च‌ के दूसरी तरफ भी मोहल्ले के सात आठ‌ बच्चों का हुज़ूम था। छोटे छोटे प्लास्टिक के गैस चूल्हों पर अल्यूमीनियम के बर्तन रखे थे और इधर उधर छोटे छोटे थाली गिलास बिखरे पड़े थे। मैंने अपने बच्चों से पूछा "क्या कर रहे हो तुम लोग ,क्यों इतना शोर मचा रहे हो? थोड़ा आराम भी नहीं करने देते, और हाथों में ये ईंटे पत्थर.........क्या है ये    ?"

और मैंने अपने बेटे पिंटू का कान पकड़कर पोर्च के दूसरी तरफ इशार कर चिल्लाते हुये कहा "उधर देखो वे भी तो तुम्हारी तरह बच्चे हैं,कितनी शांति से खेल रहे हैं।


"मगर पापा वे लोग तो घर घर खेल रहे हैं।"
"फिर तुम लोग क्या खेल रहे हो?"


"पापा हम लोग संसद संसद खेल रहे हैं न।"

-पिंटू ने भोलेपन से जबाब दिया और कान छुड़ाने का प्रयास करने लगा।

मेरा गुस्सा काफूर हो गया औ मुझे हंसी आ गई। उसके कान पर से कब हाथ छूट गया मुझे मालूम ही नहीं पड़ा।

"ठीक है खेलो बेटा" मैं इतना ही कह सका और भीतर आ गया।

6 blogger-facebook:

  1. बेनामी7:01 pm

    आज की हकीकत ,अच्छी अभिव्यक्ति |यही तो हो रहा है देशमें

    | गोवर्धन यादव‌

    उत्तर देंहटाएं
  2. Bhupendra Verma Birgaon, Raipur C.G.11:20 am

    besharm ho chuke sansad isase kuchh sabak le to bachcho ke khel me prem shamil ho jayeg.

    उत्तर देंहटाएं
  3. Bhupendra Verma Birgaon, Raipur C.G.11:22 am

    besharm ho chuke sansad isaki sarthakta samjhen to bachche prem ka khel chalu karenge qki " Bachche aap jo kahate hai vo nahi karte jo kaarte hain vahi karte hai."

    उत्तर देंहटाएं
  4. very thoughtful the story is
    bahut khub

    add me in blog i am also kavi
    my ID is ghfdbzoya123

    उत्तर देंहटाएं
  5. कमेंट्स देने के लीये धन्यवाद‌

    प्रभुदयाल‌

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------