कैस जौनपुरी के नगमें : है दिल की तमन्ना कि ख्वाबों में आओ

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------


DSCN4088 (Mobile)

है दिल की तमन्ना कि ख्वाबों में आओ
मेरे दिल की थोड़ी तो हसरत मिटाओ

जहाँ भी मैं जाऊं रहूँ मैं कहीं भी
है चाहत ये मेरी कि राहों में आओ

हुए दिन बहुत इक झलक को तुम्हारे
मैं चाहूँ तुम्हें अब निगाहों में आओ

है चेहरा तुम्हारा कि खिलता कमल
यूँ ही खिलते हुए मेरी बाहों में आओ

छुपा लो मुझे अपने दामन में तुम
छुपा लो मुझे और मुझमें समाओ

कहते सभी हैं जलवा तुम्हें
है जलवा ये क्या मुझे भी दिखाओ

आती सदा तुम हो जाने की खातिर
अब ‘कैस’ ये चाहे कभी तुम न जाओ

है दिल की तमन्ना कि ख्वाबों में आओ
मेरे दिल की थोड़ी तो हसरत मिटाओ


कैस जौनपुरी
qaisjaunpuri@gmail.com
www.qaisjaunpuri.com

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

2 टिप्पणियाँ "कैस जौनपुरी के नगमें : है दिल की तमन्ना कि ख्वाबों में आओ"

  1. बहुत खूब...
    अच्छी रचना सांझा करने के लिए आपका शुक्रिया.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.