रविवार, 29 जनवरी 2012

दीपक कुमार पाठक की कविता - आबे-जमजम और आबे-गंगा

image

लगता है आग बुझ गई है जहन से हमारे,

थोड़ी हवा तो दो शायद दबा शोला कोई दहक जाए।

आँख नम होती नहीं हैं, क्‍यों हमारी मौत पर,

कोशिश तो करो शायद जिन्‍दगी किसी की महक जाए।

तुम जो चाहो तो खिला दो फूल रेगिस्‍तान में,

और तुम जो चाहो तो नखलिस्‍तान, रेगिस्‍तान में बदल जाए।

घोसले तो कई बसे है, पेडों की शाखों पे गर,

आहिस्‍ता से थामना, सम्‍हालना, कहीं नीड़ न किसी का उजड़ जाए।

बागबाँ बन के तो देखो, इन उजड़े हुए मजारों के,

दाबा है, जर्रा-जर्रा, बूटा-बूटा इनका जो न चहक जाए।

कब तलक समुन्‍दर के किनारे, हम यूँ ही प्‍यासे रहेगें तमाम उम्र,

तबीयत से ठोकर लगा दो, चश्‍मा फूटे और प्‍यास हमारी मिट जाए।

ख्‍वाहिशों को मारना अब मुनासिब नहीं, ए-दोस्‍तों,

न जाने कब जिन्‍दगी मौत की बाहों में पिघल जाए।

आबे-जमजम और गंगा के पानी में फर्क करना मुश्‍किल है मगर,

कुछ ऐसा करों कि दोनों आबे-गंगा में बदल जाए।

मिटा दो काशी-काबा को कि खण्‍डहर भी न रहे, नामों-निशा भी न रहे,

आओं करें जतन ऐसा कि काबा-काशी की जगह इन्‍सानियत की पाठशालाएँ खुल जाए।

---

डॉ० दीपक कुमार पाठक

सहा० प्राध्‍यापक-संस्‍कृत

संस्‍कृत विभागा

नेहरू महाविद्यालय, ललितपुर (उ०प्र०)

--

(चित्र - अमरेन्द्र aryanartist@gmail.com फतुहा , पटना की कलाकृति

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------