गुरुवार, 26 जनवरी 2012

शशांक मिश्र भारती की गणतंत्र-दिवस विशेष कविता

फहराये चहुं ओर तिरंगा

आज देखूं यदि देश की हालत

तो आता है रोना,

पर सत्‍ता स्‍वार्थ की जोंकों का

देख रहा हूं सोना,

एक नहीं असंख्‍य ही देखो

विसंगतियां पड़ी हैं,

भ्रष्‍टाचार, महंगाई की

नित श्रृंखलाएं नयी खड़ी हैं,

चाहता हूं समय की धारा को

स्‍वपौरुष से जोड़ दूं,

उत्‍साहित कर सत्‍साहस को

शैय्‍यायें स्‍वार्थ की तोड़ दूं,

मैं रहूं या न रहूं इस जग में

पर बहे स्‍वतंत्रता की गंगा

उन्‍नत हो शिखर हिमालय का,

फहराये चहुंओर तिरंगा।

--

सम्‍पर्कः-हिन्‍दी सदन बड़ागांव शाहजहांपुर-2424010प्र0 9410985048

ईमेल:-shashank.misra73@rediffmail.com

2 blogger-facebook:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ……रस्म निभाने को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------