प्रभुदयाल श्रीवास्तव की कविताएँ

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

किसने कहा था आपसे नाखून चबा लो।


मेरा भविष्य भूत ,अब इतना न खंगालो
गिरता हुआ मैं पेड़ हूं कैसे भी संभालो।

बेटे की तरह हूं तेरा ,तू मां की तरह है
परदा न करो मुझसे, घूंघट न निकालो।

टूटे हुये तारों की तरह गिर रहा है ये
हाथ बढ़ाकर मेरा ये देश बचालो।


यह ठीक है कि शर्म से गर्दन झुकाई है
किसने कहा था आपसे नाखून चबा लो।


मन उदास हो कहीं या सिर में दर्द हो
जाकर किसी पड़ोस के बच्चे को खिला लो।

--

बिना इजाजत मां के कोई काम नहीं अब‌ तक करता।

एक तरफ सब धन दौलत रख एक तरफ मां की ममता
देख ठीक से पलड़ा हर दम मां की तरफ झुका मिलता।

आँख बंद करले धीरे से और हाथ छाती पर रख
देख सामने ध्यान लगाकर बस मां का चेहरा दिखता।

किसी और की माताजी को जब जब भी मैंने देखा
हर माता का चेहरा मुझको अपनी मां जैसा दिखता।

सपने में भी बार बार जब मैं मां का चेहरा देखूं
देख देख उस चेहरे को मन मेरा कभी नहीं भरता।

नहीं सामने मां है लेकिन याद अभी तक बाकी है
बिना इजाजत मां के कोई काम नहीं अब‌ तक करता।

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "प्रभुदयाल श्रीवास्तव की कविताएँ"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.