देवेन्द्र कुमार पाठक 'महरूम' का गणतंत्र दिवस विशेष गीत

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

       गणतंत्र दिवस

                          ~~~~~~ 

गणतंत्र दिवस,                        

गणतंत्र दिवस;                  

यूँ दर्द छुपाकर,                  

तू न विहँस ।   

सच क्या है ?                  

तुझे पता है सब,              

पाबन्दी है सच कहने पर; 

हालात बिगड़ते ही जाते,                

यूँ जनगण के                   

चुप रहने पर;  

चुप रहते बीते                               

बरस- बरस ।  

मौसेरे भाई चोर-चोर,           

इक थैली के चट्टे-बट्टे ; 

मेहनतकश हैँ दूबर लेकिन       

ओहदेवाले हट्टे-कट्टे ;    

हम लोकतंत्र को                               

रहे तरस ।   

अब तेरी छाया के नीचे,          

छल -छद्म घोटाले  हैँ होते ;       

सच्चे-सीधे भूखोँ मरते,    

ईमानखोर पूजित होते ; 

अब है शायद  तू भी बेबस ।             

**=**              

AATMPARICHAY          DEVENDRA KUMAR PATHAK [ TAKHLLUS 'MAHROOM' ] DATE OF BIRTH -02.03.1955 /    VILLEGE- 'BHUDSA' , (BADWARA)  DIST-KATNI (M.P.) EDUC.-M.A.B.T.C.(HINDI /TEACHING )HINDI TEACHER IN A MIDDLE SCHOOL / EDU.M.P. GOVT. /PBLSHD BOOKS - 'VIDHRMI', 'ADANA SA ADAMI' ;[NOVEL ] 'MUHIM', 'MARI KHAL: AKHIRI TAL', 'DHARAM DHARE KO DAND' , ' CHANSURIYA KA SUKH' [STORIES BOOKS] 'DIL KA MAMLA HAI'[SATIRES] 'DUNIYA NAHIN ANDERI HOGI' [ POEMS] 1981  SE PATR-PATRIKAON MEN  PRKASHAN /REDIO -T.V. SE PRSARAN/ PREMNAGAR,KHIRAHANI;POST SCINECE COLLEGE POST OFFICE-KATNI. 483501 M.P.

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

1 टिप्पणी "देवेन्द्र कुमार पाठक 'महरूम' का गणतंत्र दिवस विशेष गीत"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.