मंगलवार, 17 जनवरी 2012

एस. के. पाण्डेय के दोहे

।। दोहे-(३) ।।

हाथ लगाते हम नहीं रुपया पैसा माल ।
यसकेपी देना चहो दीजे झोली डाल ।।

माया कहि माया फँसे यह माया को जाल ।
यसकेपी छूटे नहीं माया बड़ी कराल ।।

जग जीवन सपना सही माया है बिकराल ।
यसकेपी जागे नहीं जागे आया काल ।।

माया से बचते वही जिन्हें बचाते राम ।
यसकेपी बिन राम के कहीं नहीं आराम ।।

राम बहाने ढूढ़ते यसकेपी जो दाम ।
उनकी करनी को कहे हो जाते बेकाम ।।

यसकेपी कहते सही मानव माने होय ।
बिन मानें मानव नहीं मानवता कह रोय ।।


मानव अब नहि मानते गो आदिक भगवान ।
यसकेपी बस हो गए मान और अभिमान ।।

मातु पिता की पूछते यसकेपी नहि बात ।
करतब अब ऐसे करें पशुता भी शरमात ।।

पशु को था नहि मानना नियम और नहि नीति ।
यसकेपी पशु, पशु अभी करते नहीं अनीति ।।

मानव को था मानना नियम और बहु नीति ।
यसकेपी नहि मानते करने लगे अनीति ।।

यसकेपी नहि होत हैं पशु को नमक हराम ।
मानव सच में जानते केवल अपना काम ।।

यसकेपी बढ़ने लगे जग खल दल बहु चोर ।
चला सही संसार अब बढ़ पशुता की ओर ।।

जन्मै अगर कपूत सो ते नहि कवनव काम ।
यसकेपी सपूत एक बहुत बढ़ावे नाम ।।

गदही जाए बीस सुत मर-मर करती काज ।
यसकेपी यक सुत भये करै शेरनी राज ।।

यसकेपी संसार में भाँति-भाँति के लोग ।
कुछ तो लहैं बियोग सुख कुछ पावैं संयोग ।।

खाते-खाते कुछ मरैं कुछ भूंखे मर जाँय ।
खाने वाले कह चले भूंखे नहीं दिखाँय ।।

कुछ लेकर दै देत हैं कुछ लेकर नहि देंय ।
कुछ देकर लै लेत हैं कुछ देकर नहि लेंय ।।

जो आता संसार में सो देता है रोय ।
यसकेपी नहि को मिला जो रोया नहि होय ।।

यसकेपी सच ही कहा जग है दुख का मूल ।
माया ऐसी ठगिनि है जाय कौन नहि भूल ।।

यसकेपी संसार अस आते देत रुलाय ।
जो कोई जाना चहै उसको लेत बुलाय ।।

यसकेपी इस राज का को नहि जानै राज ।
जगने आये सो रहे उड़ा लै गयो बाज ।।

यसकेपी साधू कहैं बोलो मधुरी बात ।
ऐसी बोली बोलते उर लागत आघात ।।

चाय जलाती जीभ को गुनि देखो मन माहि ।
जली जीभ से माधुरी बोली निकसत नाहि ।।

बहुत बधाई आपको बने कहैं कछु काम ।
यसकेपी मन खीझते देखे लोग तमाम ।।

जनमदिवस आये बहुत खुशियाँ हों भरपूर ।
यसकेपी मन में कहैं अंत लगत है दूर ।।

यसकेपी कहते कई दुल्हन बड़ी दहेज ।
लेना-देना खुब चले नहि कोई परहेज ।।

दो मूठा चावल मिले नहीं चाहते और ।
यसकेपी धन के बिना दुल्हन को नहि ठौर ।।

यसकेपी संसार की कही न जाए बात ।
दंभ कपट छल धूरता दिन-दिन जग अधिकात ।।
--------
                                                      डॉ. एस. के. पाण्डेय,
                         समशापुर (उ. प्र.) ।
      URL: https://sites.google.com/site/skpandeysriramkthavali/
           ब्लॉग: http://www.sriramprabhukripa.blogspot.com/

                                    *********

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------