जयप्रकाश मिश्र की कविता

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

रात उनके साथ सोने के लिए राज़ी न थी ,

कागजों और पन्नियों की आग भी काफी न थी .

 

बस वही फुटपाथ जीने और मरने के लिए ,

एक अंगुल भर ज़मीं अब शहर में खाली न थी .

 

सोचता हूँ ,मर गए जो सर्दियों की रात में ,

मौत उनकी ज़िन्दगी के बोझ से भारी न थी .

 

मयकशी थी , शोरगुल  था और थी हिंसा वहां ,

पर किसी के भी ज़ेहन में गांधीवादी न थी .

 

तब कहाँ थे ,जब लुटा था मुंबई का ताज वो ,

आपके अंदाज़ में तब तो ये जांबाजी न थी .

 

बेच दी हैं मालियों ने खुशबुएँ बाज़ार में ,

बाग़ में कोई कली खिलाती हुई ताज़ी न थी .

 

जयप्रकाश मिश्र

ईमेल - mishrajayprakash262@gmail.com

फेसबुक पर - jayprakashmish

ट्विटर पर - jayprakashmish1

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "जयप्रकाश मिश्र की कविता"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.