धर्मेन्द्र कुमार सिंह की कविता - पैसे का प्रवाह

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

गर्मी

ठंढक की तरफ बहती है

विद्युत धारा

कम विभव की ओर बहती है

पानी

नीचे की तरफ बहता है

ऊर्जा का हर स्वरूप

हमेशा बहता है

ज्यादा से कम की तरफ

ये प्रकृति का नियम है

मगर पैसा

उसी ओर बह रहा है जहाँ ज्यादा पैसा है

 

ये तभी संभव है

जब पैसे का नीचे की ओर बहाव

रोक दिया गया हो

आसमान तक ऊँचे एक बाँध से

और इस बाँध की दीवारों से टकराकर

मजबूरन पैसा बह रहा हो प्रकृति के खिलाफ़

बाँध के नीचे की तरफ बसने वाले

खुश हैं

कभी कभी छोड़े गए कुछ लीटर पैसों से

और माँगते हैं ईश्वर से

कि बना रहे बाँध

ताकि बनी रहें हमारी झोपड़ियाँ

कयामत तक चलता रहेगा ये क्रम

 

अगर छोड़ा न गया झोपड़ियों का मोह

और खत्म न हुआ बाँध टूटने का डर

बाँध टूटेगा

तो लेगा ही

कई झोपड़ियों और लोगों की बलि

पर जो कुछ बचा रहेगा

वह देखेगा

एक बार फिर

पैसे को बहते हुए

प्रकृति के नियमानुसार


--


धर्मेन्द्र कुमार सिंह
वरिष्ठ अभियन्ता (जनपद निर्माण विभाग - मुख्य बाँध)
बरमाना, बिलासपुर
हिमाचल प्रदेश
भारत

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

1 टिप्पणी "धर्मेन्द्र कुमार सिंह की कविता - पैसे का प्रवाह"

  1. वरिष्ठ अभियन्ता के (कवि ह्रदय) मन से निकले उद्गार पढ़कर मेरा यह विश्वास और भी दृढ़ हो चला है कि कवि कर्म सभी को करना चाहिए ताकि हर क्षेत्र के अनुभवों से साहित्य समृद्ध हो सके।
    ..बधाई इस कविता के लिए।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.