गुरुवार, 26 जनवरी 2012

मीनाक्षी भालेराव की दो कविताएँ

गणतंत्र दिवस पर राष्ट्र वन्दना

बाकी है

संभल जाओ ऐ दुश्मने जहाँ

अभी वीरों को जगाना बाकी है

किसी को सुभाष किसी को

भगत सिंह बनाना बाकी है

मेरी सर जमीन का एक-एक वीर

तेरे हजारों सैनिकों पर भारी है

क्या है हस्ती तेरी के तू

मेरा चमन उजाडेगा

हिंद की मिटटी से सामना

होना तेरा अभी बाकी है

धरती के कण-कण से

तूफ़ान देश भक्ति का भरा है

उस तूफान को बवंडर बनाना बाकी है

संभल--------------------------------

--

बसंत पंचमी के अवसर पर

सरस्वती वन्दना

तुम हो शारदे,------

पावन पवित्र हंस वाहिनी

श्वेत वस्त्र धारणी

वीणा वादनी

शाश्वत हो साकार हो

तुम जीवन आधार हो

तुम हो शारदे----------

बुद्धि दो बल दो

दे दो हमको ज्ञान तुम

हम नादान संतान तुम्हारी

तुम माँ संसार की

खड़े हैं चरणों मैं

शीश झुकाए

दो विद्या दान हमें

तुम हो शारदे-----

२६ जनवरी के लिए

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------