मंगलवार, 28 फ़रवरी 2012

नारायणसिंह कोरी के भजन

 शिरडी साईं बाबा

शिरडी साईं बाबा

सांई नाम जप लेना

कष्‍टों को मिटाना हो, दुख दूर भगाना हो

तो साई नाम जप लेना-2 के साई नाम जप लेना-2

हॉ साई नाम जप लेना

1- संतों ने कहा है, महन्‍तों ने कहा है

साई की महिम तो सब से जुदा है

तुम्‍हें शिरडी जाना हो साई दर्शन पाना हो

तो साई नाम जप लेना

2- बाबा का भंण्‍डारा जो कोई भी करवाये

सुख सम्‍पत्‍ति उसके घर में आ जाये

फरियाद लगाना हों बुझे दीप जलाना हो

तो साई नाम जप लेना

3- बाबा का दर से कोई खाली नहीं जाता।

रोता हुआ आता है, और हंसता हुआ जाता॥

तुझे बिगड़ी बनाना हो, किस्‍मत चमकाना हो।

तो साई नाम जप लेना

 

 

2

मैंने ओड़ लिया है चोला

मैंने ओढ़ लिया है, चोला देखो साईं नाम का ।

ये दुनिया है जंजाल, न तेरे मेरे काम का॥

मैंने ओढ़ लिया है, चोला देखो साईं नाम का।

1. बाबा के दीवानों पर कष्‍ट कभी न आता है।

ये इक ऐसा दर है यहां से खाली कोई न जाता है॥

हो मैंने आज ही खाता खोला देखो साईं नाम का ।

2. शिरड़ी में साईं तूने सबको कैसा करिश्‍मा दिखाया है।

राम, रहीम, शिव, मानक, यीशु तुझ में सबकी छाया है॥

हो मेरा मन है अब तो डोला, देखो साईं नाम का ॥

3. साई शरण में आके प्राणी, काहे को घबराता है।

साईं तो है सबका बाबा, तेरा भी उनसे नाता है।

हो मैंने मन में अमृत घोला, देखो साईं नाम का ॥

--

रचियता

नारायणसिंह कोरी

सुरईघाट कॉलोनी

ललितपुर (उ0प्र0)

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------