गुरुवार, 23 फ़रवरी 2012

मीनाक्षी भालेराव की कविताएं

*बरबाद *

यूँ भी कोई बरबाद  होता है
घर जैसे श्मशान होता है
हसरतें सारी जल गयी
हर तरफ धुंआ सा रहता है
निशान मिट गये आबादी के
खंडहरों सा जहाँ रोता है
किश्तियाँ तो डूबती हैं
मझधारों में हरदम
हम थे के किनारे ले डूबे
अधूरे अरमान लिए बैठे हैं
निशान तुम्हारे ढूंढते हैं
बेबसी का छाया है आलम
किसे कहें दास्तान ए गम

*दरवाजे*

दिल की गलियों से गुजरे हैं बार-बार अब
बंद हमने दिल के दरवाजे कर लिए हैं
रुखसत होगें हम तेरे जहान से
हमने जमाने से वादे कर लिए हैं
यूँ तो हसरतें सभी के दिलों में रहती हैं
हमने हसरतों से किनारे कर लिए हैं
तुम आओ तो सही  नफरतों का सैलाब लिए
हमने तुम्हारे हर अहसास कबूल कर लिए हैं
हम कहें या ना कहें दिल की अपने
तुम्हारी हर आरजू हमने कबूल कर ली है

--

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------