शुक्रवार, 24 फ़रवरी 2012

गरिमा जोशी पंत की कविता - अच्‍छा ही हुआ कि वह शहर बदल गया...

image

बदलाव

वह गुलमोहर का पेड़ नहीं था
जब अबकी बार कई सालों बाद
मेरा वहाँ जाना हुआ।
अच्‍छा ही हुआ कि वह शहर बदल गया।

एक बड़ी सी इमारत की नाली से
बहता झाग था जिससे मुझे था बचना
वो ओस की झरती बूँदें न थीं
जो मेरे-तेरे मिलन को और भी सिक्‍त करती थीं
वो मिलन जिसे मैंने ‘प्रेम‘ समझा।
अच्‍छा ही हुआ कि वह शहर बदल गया।

वो लंबी-लंबी पगडंडियों पर
जहाँ हम हाथ पकड़े, लड़ते कभी मिलते
चलते, बिना गाड़ी की दरकार के
वहाँ चमकती सड़कें हैं, चमकती
कारें भागती हैं जहाँ
अच्‍छा ही हुआ कि वह शहर बदल गया।

झुरमुटों झाड़ियों को खाकर
उग आए हैं कंकरीट के घने जंगल
हवा, पानी, किरण कुछ
आ नहीं सकती
इससे पहले कि मेरे हृदय में
सुप्‍त प्रेम का अंकुर फूट पड़ता।
अच्‍छा ही हुआ कि वह शहर बदल गया।

तेरे मेरे प्रेम के साक्षी
बच्‍चे बड़े हो गए, युवा भुलक्‍कड़
बुजुर्ग और बूढ़े बेजुबां
हमारे पगों के निषां
दफन हो गए हैं मोटी परतों के नीचे
नहीं तो यादें आँसू बन आँखों को देती सुजा
अच्‍छा ही हुआ कि वह शहर बदल गया।

तुम भी तो बदल गए थे
वादों से मुकर गए थे
बदलाव प्रकृति का नियम है, कब तक रोओगे
छोटी सी बात है, समझ में आ गया।
इसके पीछे का दर्शन बहुत बड़ा
अच्‍छा ही हुआ कि वह शहर बदल गया।

गरिमा जोषी पंत

8 blogger-facebook:

  1. यादों के झूले खाती सुंदर कविता

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. garima joshi pant2:52 pm

      bahu- bahut dhanyavaad deepikaji.

      हटाएं
  2. Bahut Sundar!
    वो ओस की झरती बूँदें न थीं
    जो मेरे-तेरे मिलन को और भी सिक्‍त करती थीं
    वो मिलन जिसे मैंने ‘प्रेम‘ समझा।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ज़िन्दगी का फ़लसफ़ा बयाँ कर दिया

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी कविता।
    बार बार पढ़ी मैं ने
    भगवत रावत की कविता
    'वह तो अच्छा हुआ'पढी, अब नहीं दो-तीन महीने की बात है।
    वहां पर भी मैं ने देखा है।
    इंसानियत की कमी।

    आप की कविता का परिचय हमारे साथियों से करने केलिए http://hindisopan.blogspot.in में link दिया है। आप से विनम्र प्रार्थना है। यह अहिंदी भाषियों से (we are from Kerala) कृपा करें।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------