विजय वर्मा की ग़ज़ल - खुशनसीब है वो लोग,जिन्हें उम्र है मिली मुझे तो सुख-चैन का पहर नहीं मिला.

ग़ज़ल 

बेघरों को अबतक कोई घर नहीं मिला 

हुकूमतें बीत गयी ,असर नहीं मिला.

 

कन्यादान -योजना की तामील यूँ  हुई,

गरीब कन्यायों को कोई वर नहीं मिला.

 

मिलावट का इस कदर ज़माने में चलन है,

शुद्ध हवा-पानी क्या;शुद्ध ज़हर नहीं मिला.

 

भटकता रहा प्रीत प्रतिदान की चाह में,

कहीं कोई ठौर,कही बसर नहीं मिला.

 

तेरा शहर भी क्या हादसों का शहर है?

बे-हादसा गुजरता हो,ऐसा शहर नहीं मिला.

 

खुशनसीब है वो लोग,जिन्हें उम्र है मिली 

मुझे तो सुख-चैन का पहर नहीं मिला.

9 टिप्पणियाँ "विजय वर्मा की ग़ज़ल - खुशनसीब है वो लोग,जिन्हें उम्र है मिली मुझे तो सुख-चैन का पहर नहीं मिला."

  1. तेरा शहर भी क्या हादसों का शहर है?

    बे-हादसा गुजरता हो,ऐसा शहर नहीं मिला.

    बेहतरीन...

    उत्तर देंहटाएं
  2. विद्याजी,इंडियन सिटिज़न,कजाक कुमारजी और संगीताजी
    --आप सभी को प्रतिक्रिया के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.