देवेन्द्र कुमार पाठक 'महरूम' की ग़ज़लें - बाहर सर्द सुबह हूँ पर भीतर दुपहर दहता हूं...

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

ग़ज़ल

झूठ से डरकर रहता हूँ ,

कड़वा सच पर कहता हूँ.

 

बूढ़ी माँ की आँखोँ से ;

आँसू बनकर बहता हूँ .

 

बाहर सर्द सुबह हूँ पर ;

भीतर दुपहर दहता हूँ .

 

सुख-दुख हैँ 'महरूम' अपने ;

दोनोँ से ही निबहता हूँ .

 

= = * =

ग़ज़ल

ख़ाक हैँ जो कल आग रहे हैँ .

ज़द्दोज़हद का राग रहे हैँ .

 

राह जहाँ, मंज़िल भी वहाँ पर ;

मील के पत्थर भाग रहे हैँ .

 

होँगे जोड़-गुणा अब हम क्या

आजीवन ऋण-भाग रहे हैँ.

 

सोकर क्या नायाब खो दिया

क्या पाया जो जाग रहे हैँ ?

 

हैँ 'महरूम' दाग़दामन हम ;

पर दिर से बेदाग़ रहे हैँ .

 

= = * = =

ग़ज़ल

गूँगी-बहरी तेरी ख़ुदाई .

अंधी-पंगु हुई प्रभुताई .

 

इन्सां बने नहीँ बन बैठे ;

हिन्दू,मुस्लिम,सिख,ईसाई .

 

क़द मेँ कमतर है जनमत से;

सत्ता-सियासत की ऊँचाई .

 

कामचोर, ठलुए सदनोँ मेँ ;

ओहदोँ पर काबिज़ हैँ कसाई.

 

हक़ की बात कही जो 'महरूम, ;

तो पानी मेँ आग लगाई .

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "देवेन्द्र कुमार पाठक 'महरूम' की ग़ज़लें - बाहर सर्द सुबह हूँ पर भीतर दुपहर दहता हूं..."

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.