शुक्रवार, 10 फ़रवरी 2012

सूरज पुरी के दो गीत - पोर-पोर, शाम-शाम, उतर गई आज शाम

Image023 (Custom)

वासंती एक शाम (गीत)

पोर-पोर,शाम-शाम,उतर गई आज शाम
वासंती एक शाम,वासंती एक शाम
चढी धूप उतर गई, सीढ़ी पर ताल के
दीये कुछ थिरक उठे,लहरों की चाल पे, मंदिर के
कलशों से उतर गई आज शाम(वासंती एक शाम)
बिन्दी एक लुढक गई,पश्चिम के भाल से
तारे कुछ उभर रहे,संध्या के गाल पे, केश गुंथे
जूडे पर, जुही जुडी आज शाम,(वसंती एक शाम)
धूल उठी गलियों से, शाखों से उलझ गई, दिन भर की अकुलाहट,
पातों की सुलझ गई अमुवा के बौरों से, लिपट गई आज शाम,(वासंती एक शाम)
आंगन के तुलसी के बिरवे के नीचे,
जुडॆ हाथ,झुका माथ ,दो अंखियां मीचे, सधवा के
वंदन में,सिमट गई आज शाम,(वासंती एक शाम)

-

याद के बादल.
ह्रदय आकाश पर मेरे, छितरकर छा गये बादल
तुम्हारी याद के बादल
लरज के,साथ गरजन के ,बदरिया छा गई उर पे,
कि जैसे याद के पाहुन, भटककर आ गये घर पे, कि
भूलों की सगाई, याद के करवा गये बादल,
तुम्हारी याद के बादल

घहरकर छा रही बदरी, मिलन को कर रही इंगित
तडपकर टूटती बिजुरी, धड़क कर मिल गये दो दिल
कि बिजली की तड़प से दिल जुडाते आ गये बादल
तुम्हारे याद के बादल

घटा ने थाम लो ढपली, कि बूंदें गा रहीं कजली,
"बिदेसिया पी नहीं आये"- कोयलिया दर्द से बोली
तुम्हारे दर्द से रिश्ता,........ बंधाते आ गये बादल,

तुम्हारे याद के बादल.
तुम्हारी याद , बीते पल सजाकर इस तरह बैठी,
कि जैसे कोई बिरहन रात में दियना जला बैठी,
तुम्हारी याद को बांधे,....... उतारे जा रहे बादल
तुम्हारी याद के बादल.

-----

सूरज पुरी,

ताप्ती कुण्ड वार्ड, मुलताई (बैतूल)


प्रस्तुति - गोवर्धन यादव.

2 blogger-facebook:

  1. बिन्दी एक लुढक गई,पश्चिम के भाल से
    तारे कुछ उभर रहे,संध्या के गाल पे, केश गुंथे
    जूडे पर, जुही जुडी आज शाम,(वसंती एक शाम)

    बहुत खूबसूरत गीत...

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेनामी4:54 pm

    Basant aankho ke aage chha gaya

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------