मंगलवार, 21 फ़रवरी 2012

मनमोहन कसाना की कविता - विकास

clip_image002

विकास

सब कहते हैं .....

विकास विकास विकास

जनता कहती है ................

कहां हो रहा है विकास

नेता कहते हैं कि हो तो रहा है

विकास .............................................

और क्‍या जगह जगह ताजमहल बनवायें!

हां मैं भी कहता हूं

हो तो रहा है विकास !

अब आप ये मत पूछना कि

कहां हो रहा है ?

अजी आप ही देखो ...

आजकल तो

हर जगह विकास ही विकास

चमक रहा है जैसे कि

कपडे को ढंकने के लिए तन है

और और और क्‍या ?

टाईम पास के लिए हर रोज

एक नया बेचारा संग है।

अब आप ही बताईये

हो गयी न विकास की हद

कहां एक ताजमहल के पीछे भागते रहते थे

और अब देखो न ,

कितने ताजमहल घूमते रहते हैं।

जिनकी संगमरमर से भी चमकीली बाहें है

और कपडों को ढकने वाला बदन

वो तो जिन्‍दा ताजमहल है

वाह जी वाह!

विकासशील नहीं विकसित भारत।

 

---

लेखक परिचय

जन्‍म . 06. अप्रेल 1990 को वैर राजस्‍थान में।

संप्रति . कई पत्रिकाओं में कहानी और कविता प्रकाशित

जैसे हिमप्रस्‍थ, राजस्‍थान पत्रिका, दैनिक भास्‍कर, बालहंस, मधुमती, एवं अन्‍य। वर्तमान में एक संगीत कंपनी में रीजनल हैड राजस्‍थान के पद पर कार्यरत।

शिक्षा . मैनेजमेंट से स्‍नातक और बी.जे.एम.सी. द्वितीय वर्ष में अध्‍ययनरत।

पता . मनमोहन कसाना

भोडागांव , वैर, जि. भरतपुर

राजस्‍थान 321408

संपर्क . 09672 281 281

email - manmohan.kasana@gmail.com

9 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------