मिलन कुमार की कविताएँ - दुआ दो कि ऐसा एकतारा बनूं मैं

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

सोचा था तेरा सहारा बनूं मैं.
और तेरी आंखों का तारा बनूं  मैं.

मगर मेरी क़िस्मत मे ए भी नहीं था कि ,
कश्ती का तेरी किनारा बनूं मैं .

अगर कर सको तो इनायत करो कि,
महफ़िल का तेरी दुलारा बनूं मैं .

झूमे सारी महफ़िल मौशिकी पे जिसकी,
दुआ दो कि ऐसा एकतारा बनूं  मैं .

अगर दे सको तो क़सम  दो मुझे कि,
सिर्फ़ तेरी मुहब्बत का मारा बनूं मैं .

तेरे सिवा ख्वाब देखूं किसी का तो,
दुनिया में सबसे बेचारा बनूं मैं .
--

कब तक इन जम्हूरियत के दलालों के आगे रोओगे.
देश भक्तों जागो अरे कब तक  तुम सोओगे.

अब भी न जगे तो कल इतिहास तुम्हें कोसेगा .
हर जुल्म वो सितम को जमाना  कैसे कोई सह सकता.
खा के जमीर पर चोट भी चुप कैसे कोई रह सकता.

साँप की लकीर पीटने की आदत को अब बदल डालो,
खुद भी बदलो और जमाने को बदल डालो, तू
फ़ानों क रुख मोड़ो और दरिया का रुख बदल डालो .

आख़िर कब तक  कोई बेहिस,बेखयाल कोई रह सकता. 
खा के जमीर पर चोट भी चुप कैसे कोई रह सकता. 

कब तक जाति पाति, भेद भाव की दीवारों से सर फ़ोड़ोगे,
आख़िर कब तक फ़ुरक़त, जलालत और गुरबत से नाता तोड़ोगे.

जान पर बन आये तो चूहा भी गड़ा देता है दाँत ,
फ़िर बुज़दिलों की ललकार कैसे शेर कोई सह सकता . 
खा के जमीर पर चोट भी चुप कैसे कोई रह सकता.

--

(चित्र - अमृतलाल वेगड़ की कलाकृति)

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "मिलन कुमार की कविताएँ - दुआ दो कि ऐसा एकतारा बनूं मैं"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.