कैस जौनपुरी के नगमें - उफ़ तेरे होंठों का प्यारा तिल

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

उफ़ तेरे होंठों का प्यारा तिल

उफ़ तेरे होंठों का प्यारा तिल
पागल तुझपे है मेरा दिल
जब भी देखूं नजर वो आये
उसके सिवा कुछ समझ न आये
तू ही है मेरे इश्क के काबिल
पागल तुझपे है मेरा दिल
उफ़ तेरे होंठों का प्यारा तिल

आजा तू मेरी बाहों में
भर लूँ तुझे निगाहों में
जी भर के देखूं प्यार करूँ
तुझसे ये इकरार करूँ
तू ही है अब मेरी मंजिल
पागल तुझपे है मेरा दिल
उफ़ तेरे होंठों का प्यारा तिल


कैस जौनपुरी
qaisjaunpuri@gmail.com
www.qaisjaunpuri.com

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "कैस जौनपुरी के नगमें - उफ़ तेरे होंठों का प्यारा तिल"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.