शनिवार, 18 फ़रवरी 2012

मीनाक्षी भालेराव की कविता - जीवन

image

जीवन

सूर्य की तरह उदय होता सा

जीवन चाहता है हर कोई पर

अंधकार की तरह आंसुओं से

भरा जीवन जीना पड़ता है

हरे-भरे खेत-खलियानों सा

लहराना चाहता है हर कोई

पर उजड़े हुये जंगल सा

पतझड़ सा जीवन मिलता है

पहाड़ की चोटी को छूना

चाहता है हर कोई और

अपने उदेश्यों का झंडा फेरना

चाहता है हर कोई पर उसे

कुएं खोदने का काम मिलता है

खुदा तेरे जहाँ में ये कैसा इंसाफ है

किसी को मकाम और किसी को

राहों की ठोकरें मिलती हैं

 

पाषाण युग

शताब्दियाँ बीत गयी हैं

परिवर्तन और पाषाण युग से

सुसंस्कृत युग तक पहुंचने में

पर क्या हम कुछ बदल पाए है

सदियों पहले मानव आवरण

विहीन रहता था पर भावना

विहीन नहीं हुआ करता था

आज हम नग्नता की होड़ में

आगे हैं पर भावनात्मक होड़ में

पिछड़ गये हैं युगों-युगों का

बदलाव साक्षी है के तब नग्नता

समाज के लिए अभिशाप नहीं थी

आज की नग्नता अभिशाप ही नहीं

वरन विनाश कारी भी है

 

शब्दकार

सरहदों को तोपों से बाँटने वालों

उन ईन्सानों से कुछ तो सीखो

जो शब्दों से सरहदों को जोड़ते हैं

शब्दकार तो सृष्टि का रचयिता है

साक्षात भगवान को किसने देखा है

इन्सान ने तो वही जाना है जो

साहित्यकारों , इतिहास करो ने लिखा है

किसने देखा सृष्टि का उत्थान

पल-पल जो घटता है पन्नों पर उतरता है

अपनी कलम से इतिहास लिख डालता है

दिल में घटना चक्रों का तूफान लिए

हाथों में कलम लिए फिरता है कलम धारी

फिर भी है उस के हाथ ख़ाली के ख़ाली

भरता नहीं घर अपना काली कमाई से

करता नहीं फिरता है झूठे वादे दुनिया में

करता है सेवा बांटता है ज्ञान बिना मोल लिए

गीता, कुरान;रामायण हो या हो बाइबिल

या हो ग्रंथों से बड़े कोई ग्रन्थ या पुराण

रचनाकार ही इन सब का हकदार है

मिलना उस को चाहिए पूरा सम्मान चाहिए

 

वीर जवानों

मेरे देश के वीर जवानों

खुद को तुम पहचानो

तुम छा जाओ अम्बर पर

बादलों की तरह

सागर पर किनारों की तरह

वीरानों में आबादी की तरह

फजाओं में मौसम की तरह

तुम छा जाओ ममता में

माता की तरह

आंचल में शिशु की तरह

अँधेरे में उजालों की तरह

मुसीबत में सहारों की तरह

तुम छा जाओ किताबों में

पन्नों की तरह

इतिहास में शब्दों की तरह

वीरता में देश भक्तों की तरह

सरहदों पर दीवारों की तरह

मेरे-------------------------------

4 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------