एस. के. पाण्डेय की लघुकथा - अंतर

अंतर

फूला काकी अपने पोते को गो माता का महत्व बताती रहती थीं । लेकिन वह एक कान से सुनकर दूसरे कान से निकाल देता था । एक दिन काकी ने देखा कि गौ माता बैठी हुई हैं और उनका पोता लात मार-मारकर उन्हें उठाने का प्रयास कर रहा है ।

काकी से नहीं रहा गया । बोलीं “नासपीटे तूँ गौ माता को लात मार रहा है । तुझे कहीं बैठारी नहीं मिलेगी” ।

पोता बोला “तुम चुप रहो बस । बताओ गाय और बकरी में क्या अंतर है” ?

काकी उसे गाली देने लगीं और बोलीं “देश और समाज का यही दुर्भाग्य है कि आज तुझ जैसे हजारों लोग हो गए हैं । जिनके मन-मस्तिक में मल की बास भरी रहती है वे गुबरौले भला फूल के मकरंद और मल की गंदगी में क्या अंतर समझेंगे ? गंगाजी और नाले का अंतर गंदी नाली के कीड़े क्या समझेगें” ?

---------

डॉ. एस. के. पाण्डेय,

समशापुर (उ.प्र.) ।

URL1: http://sites.google.com/site/skpvinyavali/

ब्लॉग: http://www.sriramprabhukripa.blogspot.com/

*********

-----------

-----------

0 टिप्पणी "एस. के. पाण्डेय की लघुकथा - अंतर"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.