मंगलवार, 14 फ़रवरी 2012

कैस जौनपुरी के नगमें - वेलेंटाइन दिवस विशेष : एक बार तेरा दीदार हो...

image

एक बार तेरा दीदार हो

दिल की है ये आरजू
एक बार तेरा दीदार हो
एक बार सही कोई गम नहीं
तुझे भी मुझसे प्यार हो
आजा नजर के सामने तू
एक बार तेरा दीदार हो

मैं जो चाहूँ मुझको दे दे
एक बार जरा तैयार हो
लेके दिल में हौसला
एक बार जरा इधर तो आ
है दिल में मुहब्बत भरी हुई
एक बार तुझे इकरार हो

दिल ये चाहे होंठो पे
ना मेरे लिए इनकार हो
तुझे भी मुझसे प्यार हो
तुझे भी ये इकरार हो

है कितनी मुहब्बत तेरे दिल में
इसका भी जरा इजहार हो
हो जाए तसल्ली मुझको भी
गर तुमको मुझसे प्यार हो


कैस जौनपुरी
qaisjaunpuri@gmail.com
www.qaisjaunpuri.com

3 blogger-facebook:

  1. खूबसूरत नगमा...
    सही मौके पर पेश किया..
    शुक्रिया..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर रचना| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. vijay shankar mishra11:48 pm

      खूबसूरत नगमा...
      सही मौके पर पेश किया..
      शुक्रिया..

      हटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------