मंगलवार, 28 फ़रवरी 2012

मोहसिन खान की कविता : भूमि और पौधे बनाम माँ और सन्तानें

image

भूमि और पौधे बनाम माँ और सन्तानें

( मदर्स डे पर विशेष )

और बीजों की तरह

भूमि के भीतर से

उग आया था, एक बीज !

भूमि की छाती पर ।

जो बीज अभी फूटा था

अंकुर बनकर,

इससे पहले पैदा हुए पौधों से

वह कहीं अधिक छोटा था ।

 

भूमि के भीतर से एक ही नस्ल के

पैदा हुए थे सभी पौधे,

लेकिन कुछ कांटेदार हुए,

कुछ हरे तो रहे, केवल ऊपर से

रहे रसहीन, गन्धहीन !

 

उन सबने सींचा था बहुत

भूमि की छाती का रक्त

और वह लहराये भी तो अपनी मस्ती में,

पर कभी नहीं फैंकी उनकी टहनियों ने

भूमि की सूखती, झुलसती छाती के लिये

एक भी पत्र की सुख भरी छांह !

 

भूमि के ने कभी न मीचा था

अपने नेत्रों को उनके लिये

और न ही मुख फेरा था उनसे कभी ।

अपनी छाती पर, उनकी जड़ों को

मज़बूती से पकड़कर

उनको सदेव गाडे़ रखा !

 

उन कंटिले हरे, केवल ऊपर से

सूखे, रसहीन, गन्धहीन पौधों को ।

भूमि ने किया था वर्षों उत्सर्ग उनके लिये

कितना ही शीतल और तरल रस

उनके भीतर भरती रही

और सहती रही आशाओं की अग्नि

अभिलाशाओं के धुंए ।

 

उस नए बीज ने देखा था सब कुछ

और भूमि की झुलसती छाती को,

जो हरे, केवल ऊपर से कंटिले सूखे,

रसहीन, गन्धहीन थे ।

 

उन पौधों से भूमि की कुचली मृतिका ने

दम तोडा़ था,

गहरी छांव देने को, मीठे फल देने को ।

पौधे विकृत हो गये थे

भूमि पर गडे़-गडे़ !

 

और रह गये बौने,

कूबड़ और विकलांग से

भूमि ने उस नए अंकुर से भी

नहीं की थी कोई आशा

और उसे वैसे ही उगने दिया,

जैसे सब उग गये थे,

वैसे ही सींचा

जैसे सबको सींचा था ।

 

जो हो गये थे ऊपर से हरे, पर सूखे,

रसहीन, गन्धहीन और कंटिले ।

समय के साथ सब पौधे

एक-एक करके मुड़ गये

अपनी ही जडो़ं की और

भूमि ने अपने में ही समा लिया

अपने ही अंगों को ।

 

फिर समय के साथ नया अंकुर

बन गया पौधा !

अकेले ही वह खोजता रहा

कई प्रहरों, कई वर्षों, कोई उपाए

ताकि एक क्षण झूलसती भूमि को

चैन की छांह दे सके ।

 

वह भी गडा़ रहा भूमि की छाती पर

लेकिन बडी़ ही आस्था के साथ

उसने अपनी गम्भीर साधना से

कई टहनियों को दूर तक फैलाया

और कई हरे-हरे पत्र समेटे अपने में ।

 

सधना हुई पूर्ण

और सफलता का आया मौसम

तो खोल दिये अपने पत्रों के

अगणित हरे-हरे पंखों को

और बहा दिया शीतल पवन

देने को राहत

जलती, झुलसती भूमि को,

जो वर्षों से तप रही थी अपनों के लिये ।

 

आज वह अंकुर तना है बनकर वृक्ष सबल

भूमि की छाति पर

स्वयं वहन कर धूप को

नहीं झुलसने, तपने देता है

भूमि को एक क्षण के लिये भी

जब भी धूप झुलसाती है

भूमि का कोई कोना

तो फैला देता है

अपने हरे-हरे छोटे पंख ।

 

भूमि अब प्रसन्न है

उसकी चैन की छांह पाकर

उसे देखकर वृक्ष प्रतिदिन

उस पर पुष्प बरसा देता है

और भूमि भूल जाती है

वर्षों की तपन,जलन, झुलसन

पाकर उसका हरापन, रसीलापन और गन्ध

भूमि होती जाती है

शीतल, शांत और नम्र !

---

डॉ॰ मोहसिन ख़ान

सहायक प्राध्यापक हिन्दी

जे. एस. एम. महाविद्यालय,

आलीबाग- जिला-रायगड़

( महाराष्ट्र ) 402201

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------