मंगलवार, 20 मार्च 2012

ज्योत्स्ना शर्मा के 10 तांका

तांका

image

` 1

चाहें न चाहें

हम कहें न कहें

नियति -नटी

बस यूँ ही नचाए

रंग सारे दिखाए

 

2

नैनों में नींद

मैं समझ जाती हूँ

सुख है यहाँ

धीरज और धर्म

फिर जायेगा कहाँ

 

        3

सुख तो आते

संग-संग गठरी

दुःखों की लाते

मै खुलने न दूँगी

बिखरने भी नहीं ।

 

4

कान्हा मैं खेलूँ

एक शर्त हमारी

जीतूँ तो "मेरे"

और जो हार जाऊँ

तो मै सारी तुम्हारी ।

 

5

फूलों से सुना

कलियों को बताया

मैंने भी यहां

जीवन -गीत गाया

प्रत्यहं दोहराया ।

 

6

निशा ने कहा

भोर द्वारे सजाये

निराशा नहीं

तारक आशा के हैं

चांद आये न आये ।

 

7

सूरज कहे

ऐसा कर दिखाओ

व्याकुल -मना

वीथियाँ हों व्यथित

कभी तुम ना आओ ।

 

8

कविता मेरी

बस तेरा वन्दन

तप्त पंथ हों

तप्त पथिक मन

सुखदायी चन्दन ।

 

9

मैं मृ्ण्मयी हूं

नेह से गूंथ कर

तुमने रचा

अपना या पराया

अब क्या मेरा बचा ।

 

10

तुम भी जानो

ईर्ष्या विष की ज्वाला

फिर क्यूं भला

नफरत को पाला

प्यार को न संभाला .

jyotsna.asharma@yahoo.co.in

7 blogger-facebook:

  1. ज्योत्स्ना जी के तांका माधुर्य से ओतप्रोत हैं । ये दोनों तांका तो एकदम लाजवाब हैं -
    8
    कविता मेरी
    बस तेरा वन्दन
    तप्त पंथ हों
    तप्त पथिक मन
    सुखदायी चन्दन ।

    9
    मैं मृ्ण्मयी हूं
    नेह से गूंथ कर
    तुमने रचा
    अपना या पराया
    अब क्या मेरा बचा ।
    -0-

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहतरीन तांका...
    मात्राओं के बंधन के बाद भी अच्छी भावाव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  3. उत्तर
    1. Jyotsna Sharma4:26 pm

      garima pant ji ,expression evam sahaj sahity ke prati ...hriday se aabhaaree hun .....sundar ,prerak pratikriyaa ke liye...!

      हटाएं
  4. आपकी यह सुन्दर रचना दिनांक 18.10.2013 को http://blogprasaran.blogspot.in/ पर लिंक की गयी है। कृपया इसे देखें और अपने सुझाव दें।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------