सुरेन्‍द्र अग्‍निहोत्री की कविता

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

दुःख का दरिया फूट पड़ा

पल्‍ला झाड़ रहे यह गम है

 

बिलख रहा सारा मंजर तो

तबाह हुऐ तो सिर्फ हम हैं

 

जूझ रहा प्‍यासा लहरों में

उनकी आँखें नहीं तो नम है

 

रो पड़ी लाखों नरगिसें तो

उनको लगता दर्द बहुत कम है

 

जीने की जब आस टूट रही

जीवन मिल गया क्‍या कम है

 

दुःख का दरिया ठाठें मारता

खुश किस्‍मत तो फिर भी हम हैं।

 

-सुरेन्‍द्र अग्‍निहोत्री

राजसदन- 120/132 बेलदारीलेन

लालबाग, लखनऊ

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "सुरेन्‍द्र अग्‍निहोत्री की कविता"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.