मोहसिन खान की ग़ज़लें

-----------

-----------

ग़ज़ल
कितनी बेचैनी को दिल में दबा रखा है।
मैंने भी एक ख़ाब सजा रखा है।

वो शरमाते बहोत हैं पर हम जानते हैं, 
निगाहों ज़हन में हमें बसा रखा है।

कब वो आजाएँ क्या पता किस घड़ी, 
घर का दरवाज़ा खुला रखा है।

ठोकर न लगे राहों में कभी भी तुमको, 
तरगी में चराग़े दिल जला रखा है।

जो आशआरों में न ढल पाया कभी
रंजों-ग़म वो सीने में छुपा रखा है।

दम निकालने की कोई तो हो वजह
बस एक ग़म जाँ से लगा रखा है।


ग़ज़ल   
घर की दीवारें क़द से बुलंद रखना।
सबक़ नहीं ग़ुज़ारिश है याद रखना।

उड़ न जाये कोई याद ख़ुशबू की तरह,
चाक़े-ग़रेबाँ अपना बंद रखना।

मुश्किलें लाख सताएँ ज़माने की तो क्या,
तुम होंसले अपने बुलन्द रखना।

इक तेरी दोस्ती से ख़फ़ा हैं ज़माने के लोग,
अपनी अदा है अपनी पसंद रखना।

बहोत हो चुका निसाब तुम्हारा,
चंद तल्खियाँ ज़ुबां पर रखना।

-----------

-----------

0 टिप्पणी "मोहसिन खान की ग़ज़लें"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.