शुक्रवार, 16 मार्च 2012

प्रभुदयाल श्रीवास्तव की बुंदेली ग़ज़ल

बुंदेली गज़ल‌

image
       दद्दाजू को माल उड़ा रये उनके लड़का
       गड़ो माल तक खोद कें खा रये उनके लड़का|

       साल में जाने कित्तों की टिकटें कटवा दईं
       स्क्रूटर पे कार चढ़ा रये उनके लड़का|

       करें डिंडोरा एई बात पे कछू दिनों में
       एम एल ए बनबे खों जा रये उनके लड़का|

       जिनने तनक विरोध करो उनकी बातों को
       सरे आम उनखों पिटवा रये उनके लड़का|

       ठोक पीट कें कोतवाल खों करो अधमरो
       थाने में आगी लगवा रये उनके लड़का|

       जब मन आ गओ जहां चाये सें रावण बन कें
       सीता खों अगवा करवा रये उनके लड़का|

5 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------