गुरुवार, 8 मार्च 2012

प्रभुदयाल श्रीवास्तव की होली विशेष कुंडलियाँ

              

  कुंडलियां
                    [1]
  होरी फिर से आ गई तन पर दे रंग डार‌
  नयनों की तलवार से कर दे दिल पर वार
  कर दे दिल पर वार अरे मन घायल कर दे
  बातों ही बातों में उसको पागल कर दे
  तन और मन पर हाथ साफ पहले कर लेना
  फिर धीरे से उसका सारा धन हर लेना।
                  [2]
  बहती गंगा में सभी आज धो रहे हाथ‌
  किसी तिजोरी को प्रिय तू भी करदे साफ‌
  तू भी करदे साफ करोड़ों तू भी खाले
  खा खाकर सारी दुनियां में नाम कमा ले
  न जानें फिर ऐसे स्वर्ण दिवस कब आयें
  क्यों चूकें शुभ घड़ी और रोयें पछतायें।
                 [3]
खाने पीने में प्रिये नहीं झिझकना आज‌
जिसने गप गप खा लिया वही बना सरताज‌
वही बना सरताज उसे सबने पहचाना
दुनियां वालों ने भी उसका नाम बखाना
जो जितना ज्यादा खाता वह् पूजा जाता
उसके आगे अखिल विश्व अब शीश झुकाता।
               [4]
एक जमाना था सखे बड़ी बुरी थी जेल
निकला करता था वहां बेईमानों का तेल‌
बेईमानों का तेल जेल से सब थर्राते
सुना जेल का नाम नाम से ही डर जाते
किंतु आजकल जेल स्वर्ग का सुख देती है
गुंडों तक को को हाय मंत्री पद देती है।
               [5]
लगती अब तो होड़ है भर देंगे जी जेल‌
जेल हो रही आजकल है कुर्सी का खेल‌
है कुर्सी का खेल जेल जो हो आता है
परम पिता परमेश्वर का पद पा जाता है
तुम भी जाकर यार जेल में रहकर आ ओ
एम एल ए या सांसद की कुर्सी पा जाओ।
               [6]
यूं तो होली पर सभी लगा रहे थे रंग‌
भैयाजी के थे मगर अलग तरह के ढंग‌
अलग तरह के ढंग थोबड़ा हिला रहे थे
मजे मजे से सबको चूना लगा रहे थे
तू भी जा उनके चरणों में शीश झुकाले
चूना लगवाकर तू अपना भाग्य जगाले।

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------