गुरुवार, 22 मार्च 2012

मोतीलाल की कविता

image

घरों में रात चढ़ गयी है और
अस्मिता की मद्धिम कराह
तीसरे पहर में भी रेलवे स्टेशन की तरह जाग रही है

बेजान आँचल की हवा
नीले समुद्र से होकर नहीं बहती और अनवरत शोक गीत टीवी पर जारी है
नहीं यहाँ कोई आम नहीं बहुत ही खास
नहीं रहे है उनके बीच और
भाषा के अंतिम शब्द
प्याली में गिर चुके हैँ

इस विकट शहर को अभी तक
ऊब ने नहीं छुआ है
रेत का लहराता टापू
प्रभु के मौन की तरह चुप है
इसी शहर में
जैसे जंगल घुस आया है

चीटियों के घरों से होकर जो रास्ता
नींद के रास्ते से मिलता है
वह निवास आकृति कहीं नहीं मिलती है न कमीज के पाकेट में
न किताबों के अटारी में

प्रक्रिया बदलाव की
सिमट गयी है टीवी पर
और ज्यामिति के कोण हमारे पांव में बदल गये हैँ और
हो गये हैं हम जरा से टेढ़े
इस टेढ़े समय में

हमने पाल लिया है नीले पर्वतों की जगह देह मुक्त सुन्दरता को
और ड्राइंगरूम में बचा लिया गया है सीधे-साधे समय को
शैँपू किये गये बालों में

प्रतीक्षा है रात कब उतरेगी
जैसे बिल्ली उतरती है पेड़ से ।

* मोतीलाल/राउरकेला 

1 blogger-facebook:

  1. बेजान आँचल की हवा
    नीले समुद्र से होकर नहीं बहती और अनवरत शोक गीत टीवी पर जारी है
    नहीं यहाँ कोई आम नहीं बहुत ही खास
    नहीं रहे है उनके बीच और
    भाषा के अंतिम शब्द
    प्याली में गिर चुके हैँ..
    कोमल भावो की और मर्मस्पर्शी.. अभिवयक्ति .......

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------