कृष्‍ण कुमार चन्‍द्रा का होली गीत (छत्‍तीसगढ़ी)

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

होली गीत (छत्‍तीसगढ़ी)

लड़का- मन मार देहे ओ मन मार देहे

एदे कइसे बजावंव नगारा रे, टुरी मन मार देहे

 

लड़की- मया डार देहे गा मया डार देहे

मोर होवथे बूता बिगाड़ा रे, टुरा मया डार देहे

 

लड़का- मोर टिकरा ह परे हे परिया

परसा के लाली होवथे करिया

कहां तैं भुलाये हस कहां तैं गंवागे ओ

सुरता म चुपे हे नगाड़ा ओ, गोरी मन मार देहे

 

लड़की- रंग पिचकारी हुड़दंग होली

फागुन के सररर मीठी बोली

नानपन ले गा अपन रंग मा रंगाये हस

बड़ दुरिहा मा हावे तोर पारा रे, टुरा मया डार देहे

 

लड़की- घर के दुवारी ठाढ़े हे बइरी

फिरि फिरि आवै मोर गोड़ पंइरी

कइसे मैं आवौं बता ना मयारू

लमे हावे सुरता के धारा रे, टुरा मया डार देहे

 

लड़का- बिना राधे के होरी ना होवे मैं आवथौं

तोर गली तोर खोर

मोर नगारा के बोली रे होली के टोली

तोर मया के बंधना ला छोर,

मन मोही डारे ओ मन मोहि डारे

एदे बाजे नगारा ढमाढम रे, गोरी मन मोहि डारे ।

'''

कृष्‍ण कुमार चन्‍द्रा

kckrishnchandra270@gmail.com

--

(चित्र - मुखौटा कलाकृति - साभार नव सिद्धार्थ आर्ट ग्रुप)

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "कृष्‍ण कुमार चन्‍द्रा का होली गीत (छत्‍तीसगढ़ी)"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.