मोतीलाल की कविता - उनका आकाश

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

तुम ढंकना चाहते हो
आकाश को
फटी चादर से
जहाँ चमकता है सूरज
मुस्कुराता है चाँद
झाँकते हुए
उसी फटी चादर से

कहीँ तुम
आकाश की जगह
अपने को तो
नहीँ छुपाना चाहते
उस फटी चादर से
और बचा लेना चाहते हो तुम
मुट्ठी भर आकाश
रसोई मेँ पड़ी
दो दिन की एक बासी रोटी की तरह

कहीँ तुम 
मुट्ठी भर आकाश मेँ
बोना तो नहीँ चाहते हो
हमारे रिश्तोँ की फसलेँ
और कहीँ देखना तो नहीँ चाहते
चूल्हे की आँच
आखिर किस सीमा तक
जला पाती है
उन फसलोँ को

कहीँ तुम
मिसाईल तो नहीँ दागना चाहते
बड़ी मुश्किलोँ से बची
मुट्ठी भर आकाश मेँ
और कहीँ
बनाना तो नहीँ चाहते
तुम अपने लिए घर
लाशोँ का घर
कि इस मुश्किल समय मेँ
सेँका जा सके
कम से कम हाथ
उन लाशोँ को जलाकर

हाँ तुम
ढँक देना चाहते हो
फटी चादर से
पूरे आकाश को
और बचा लेना चाहते हो
उन फसलोँ को
उन लाशोँ को
कि कौवे की चोँच
तुमसे पहले
कहीँ चट न कर दे ।

* मोतीलाल/राउरकेला
* 9931346271

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "मोतीलाल की कविता - उनका आकाश"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.