एस. के. पाण्डेय की लघुकथा - बड़ी चीज

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

बड़ी चीज

‘जानती हो दुनिया में सबसे बड़ी चीज क्या होती है’ ? मोहन ने रोली से पूछा। रोली बोली ‘भगवान। भगवान से बड़ा और क्या हो सकता है’ ?

मोहन बोला ‘भगवान तो सबसे बड़े हैं ही। लेकिन एक चीज ऐसी है जो भगवान को भी वश में कर लेती है। और मेरा मानना है दुनिया में वही सबसे बड़ी चीज है’। रोली बोली ‘मुझे नहीं पता। तुम्हीं बताओ’।

मोहन बोला ‘प्रेम। यह प्रेम ही तो है जो भगवान को भी वश में कर लेता है। प्रेम ऐसी चीज है जिसके बिना अपने भी बेगाने हो जाते हैं। और यदि प्रेम हो तो बेगाने भी अपने बन जाते हैं। प्रेम की कमी की ही वजह से ही घर और समाज दिनों-दिन टूट रहे हैं। तुम मानो या न मानो लेकिन मेरा मानना है कि प्रेम बहुत ही बड़ी चीज है।

------------

डॉ एस के पाण्डेय,

समशापुर (उ.प्र.)।

URL: http://sites.google.com/site/skpvinyavali/

ब्लॉग: http://www.sriramprabhukripa.blogspot.com/

*********

(चित्र - मुखौटा कलाकृति - सौजन्य- नव सिद्धार्थ आर्टग्रुप)

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "एस. के. पाण्डेय की लघुकथा - बड़ी चीज"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.