सतीश चन्द्र श्रीवास्तव की कविताएँ

1.

कोई बचायेगा रहीम, तो कोई राम

कोई बचायेगा जाति, तो कोई नाम

ऐसे में कैसे बचा पाऊंगा, मैं तुम्हारा प्यार !

कोई बचायेगा देश, तो कोई लोकतंत्र

कोई बचायेगा विज्ञान, तो कोई मन्त्र

ऐसे में कैसे बचा पाऊंगा, मैं तुम्हारा प्यार !

कोई बचायेगा सौन्दर्य, तो कोई सोना

कोई बचायेगा लहरें, तो कोई सफ़ीना

ऐसे में कैसे बचा पाऊंगा, मैं तुम्हारा प्यार !

2.

सच छल है, सच प्रपंच है।

सच झूठ का खुला मंच है॥

सच धोखा है,सच आवारा है ।

सच मीठा नहीं, बस खारा है॥

सच के हाथ नहीं, न ही सच के पैर हैं।

सच अपना नहीं, सच केवल ग़ैर है।

सच को ढ़ूंढ रहे कुछ सच्चे लोग।

सच की छाया से खेल रहे लोग ।

---

  सम्प्रति :- मण्डल रेल प्रबन्धक कार्यालय, इलाहाबाद

सतीश चन्द्र श्रीवास्तव
५/२ए रामानन्द नगर
अल्लापुर, इलाहाबाद

2 टिप्पणियाँ "सतीश चन्द्र श्रीवास्तव की कविताएँ"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.