रविवार, 18 मार्च 2012

देवेन्द्र कुमार पाठक की कविताई / गीत : हाथ हवा मेँ

रात-रात भर मन-चमगादड़;

भटका पीर-पहार, त्रास-वन.

 

खीज तोड़ती खाट, अवशता

झूल रही अल्गनियोँ पर ;

 

मकड़जाल बुनती कुंठाएँ

दुधमुँह शाख-टहनियोँ पर ;

 

चेहरे की हर दरकन से है

झाँक रहा घर का नंगापन .

 

नि:श्वांसोँ मेँ खून खाँसती

दीर्घ दुराशाएँ खाँसी-सी ;

 

जिना मानो ज़ुर्म हो गाया ,

लगे ज़िन्दगी गलफाँसी-सी;

 

हाथ हवा मेँ लाठी भाँजेँ ,

पाँव- पिँडलियाँ भुगतेँ भटकन .

 

--- * ---

गीत-

बिगड़रही तस्वीर दिन-ब-दिन

 

रोज़-रोज़ की रद्दो-बदल से ;

बदल सको तो बदलो तल से.

 

ताल-समंदर पानी बरसे ,

ख़ेत पियासे,धूल फाँकते ;

हटकट कर अपनी जड़ से

 

उन्नति के हर मूल्य आँकते .

हल हो रहे भूख के मसले ,

फ़ाइल मेँ हरियाई फ़सल से.

 

पत्थरदिल संसद दिल्ली मेँ

बहा रही आँसू घड़ियाली ;

जी हुजूरिए, भँड़ुए एकजुट

 

बेमौसम गाएँ खुशहाली ;

गाँव शहर हड़बोँग मची है

भीड़, सभाएँ, रैली जलसे .

= * =

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------