शुक्रवार, 30 मार्च 2012

अतुल कुमार रस्तोगी की कविता - ओस, अब कहाँ!

image

ओस, अब कहाँ !
निशब्द अँधेरे में पिघलने का सुख
तैरकर पत्तों पर फिसलने का सुख
किरणों में कण-कण चमकने का सुख
 अब कहाँ !
आर-पार दिखने दिख जाने का सुख
मोती-सा बन चमचमाने का सुख
छोटी-सी छुअन पर मिट जाने का सुख
 अब कहाँ !
मखमल-सा सुख देकर जाने का सुख
मलमल-से तन पर बिछ जाने का सुख
इक क्षण बस एक कण हर्षाने का सुख
 अब कहाँ !
पत्तों के तन पर डगमगाने का सुख
पंखुड़ियों के संग झूम जाने का सुख
किरणों पर लुटकर टिमटिमाने का सुख
 अब कहाँ !
हवा से हिलकर खिलखिलाने का सुख
धरती में घुलकर सरसाने का सुख
नयनों में नीरज नज़राने का सुख
 अब कहाँ !
रचनाकार - अतुल कुमार रस्तोगी
(संक्षिप्त परिचय)
जन्म तिथि : 01.11.1962
जन्म स्थान : शाहजहाँपुर, उत्तर प्रदेश
पिता का नाम : श्री राम किशोर रस्तोगी
माता का नाम : स्व. प्रभा रस्तोगी
स्थायी पता : तेलीबाग़, रायबरेली रोड, लखनऊ (उत्तरप्रदेश) 
संप्रति : भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक में सेवारत
सम्पर्क : बी-507, मीनाक्षी अपार्टमेन्ट, गोकुलधाम, गोरेगाँव (पूर्व), मुंबई – 400 063
(महाराष्ट्र)
मोबाईल : 09920565635
ई-मेल : atulkumarrastogi@yahoo.in
 akrastogi@sidbi.in

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------