देवेन्द्र कुमार पाठक "महरूम" के फागुनी दोहे

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

टूट गए एकबारगी, संयम के तटबंध ;

जोड़ रहीँ मनलहरियाँ, मनमाने संबंध.

 

बौराईँ अमराइयाँ उन्मत हुआ पवन

मन-अनंग रंग-रागमय, हुलसित तन-मधुवन.

 

मन वृन्दावन हो रहा, तन जनु गोकुल धाम ;

श्यामा-श्याम विचर रहे, तन-मन आठोँ याम.

 

खिले कमल-मुख मुदित मधु अधर पाखुरी-हास ;

बेँदी मध्य ललाट ज्योँ रवि सोहे आकाश.

 

रँगे अबीर-गुलाल से, युवा,वृद्ध,आबाल ;

सुख-सुमनोँ से लद रहीँ, मन-छेवलोँ की डाल.

 

नयनोँ की पिचकारियाँ, मारेँ भर-भर रंग ;

मन-गलियोँ मेँ फिर रहा, है मनचला अनंग.

 

मस्ती- मेल, हँसी-खुशी, छेड़छाड़-उत्पात ;

प्रेम-राग-रंग दे मिटा, हद-क़द,पद-औकात.

--

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

1 टिप्पणी "देवेन्द्र कुमार पाठक "महरूम" के फागुनी दोहे"

  1. बहुत सुंदर दोहे आध्यात्मिकता का रंग लिए हुए........
    मोहसिन खान

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.