गुरुवार, 8 मार्च 2012

हिमकर श्याम की महिला दिवस विशेष कविता - चलती रहेंगी बहसें...

image

चलती रहेंगी बहसें

हिमकर श्याम

बार-बार हर बार

मौसम दर मौसम

साल दर साल

उठता रहा है

नारी मुक्ति का प्रसंग

रैलियों में, धरनों पर

बैठकों में, मंचों पर

अखबारों में, टी.वी पर

होती रही हैं बहसें

 

बार-बार, हर बार

महिला दिवस के

आसपास उग आते हैं

सड़कों पर

महिला हकों के

सैकड़ों झंडाबरदार

हर तरफ मचता है

नारी मुक्ति का शोर

धूप चश्मे, रंगीन छतरी में

उतरती हैं सड़कों पर

संभ्रांत-प्रगतिशील औरतें

लगाती हैं नारे

करती हैं प्रदर्शन

अपनी ताकत का

 

स्त्री हकों की खातिर

न्यूज चैनलों पर

उठाती हैं आवाज

नारीवादी सपनों में

भरी जाती हैं उड़ान

बार-बार, हर बार

नारी मुक्ति की आड़ में

चलाते हैं सब दुकानें

वातानुकूलित कमरों में

होतीं हैं नारी मुक्ति पर

ढ़ेरों बैठकें, परिचर्चाएं

न्यूज चैनल लगाते हैं

ऐसी खबरों का तड़का

 

हंगामा खड़ा करना

शगल है मीडिया का

लड़कियों की मंडी

मसाज पार्लर का धंधा

अश्लीलता और नग्नता

भाता है चैनलवालों को

खबरों से गायब होती हैं

स्त्रियों की परेशान जिंदगी

घुटन, संत्रास, निराशाएं

उनके दुख और आंसू

बार-बार, हर बार

सड़क से संसद तक

खायी जाती हैं कसमें

लिए जाते हैं संकल्प

 

आधी आबादी को

मिलेगा पूरा हक

पर मिलता है

केवल तिरस्कार

बारम्बार

आज भी यहां

मारी जाती हैं

कोख में कन्याएं

थमती नहीं है

दहेज हत्याएं

दौड़ायी जाती हैं

नंगी कर औरतें

 

होता है चीरहरण

यहां द्रौपदी का

देती रही है सीता

अग्नि परीक्षाएं

नहीं मिला हैं

आजतक स्त्री को

अपनी शर्तों पर

जीने का अधिकार

बार, बार, हर बार

आड़े आ जाता है

पुरूषों का अहंकार

सताने लगता है डर

खत्म न हो जाए

कहीं एकाधिकार

 

किंतु, परंतु में

सिमट रह जाती हैं

सारी बहसें

बदलती नहीं हाशिए की

महिलाओं की सूरतें

सदियां गुजरी

नयी बदली स्थिति

बदली नहीं पुरूषवादी

मानसिकताएं

चलती रही हैं बहसें

और यूँही

चलती रहेंगी बहसें

बार-बार, हर बार।

---

 

पत्र-व्यहार का पता : हिमकर श्याम

5, टैगोर हिल रोड, निकट रिलायंस फ्रेश,

मोराबादी, रांची. (झारखण्ड)

पिन कोड : 834008.

ई-मेल पता : himkarshyam@gmail.com

--

(चित्र - नव सिद्धार्थ आर्ट ग्रुप की मुखौटा कलाकृति)

1 blogger-facebook:

  1. कड़वी सच्चाई का बेबाक बोध कराती प्रभावी रचना. नारी मुक्ति के नाम पर जो कुछ चल रहा है उसका सटीक चित्रण है आपकी कविता में.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------