शुक्रवार, 16 मार्च 2012

एस. के. पाण्डेय के दोहे

दोहे-(५)

नेता कहते पूत से प्रजातंत्र को मूल ।

फूल सूल में भेद नहि बको उलूल-जुलूल ।।

 

हमको कुछ नहि हरज है देश जाय जो भाड़ ।

यसकेपी नेता नहीं हम हैं देश उजाड़ ।।

 

विरोधी को न छाड़िये बहुत उछालो कीच ।

यसकेपी सोते रहो पाँच साल के बीच ।।

 

जागो बेटा उस समय साल जाय जब बीत ।

यसकेपी कुछ भी करो होय चुनावीं जीत ।।

 

दुश्मन अपना को नहीं नहि कोई है मीत ।

यसकेपी कुर्सी बचे यही हमारी नीत ।।

 

तंत्र मंत्र फैलाय के जीतो अवसि चुनाव ।

यसकेपी लूटो देश को अगर लगे जो दाव ।।

 

राजनीति को छोड़कर बाकी सब बेकार ।

यसकेपी क्या चूकना कर सपना साकार ।।

 

पढ़े-लिखे बहु घूमते आते अपने पास ।

यसकेपी किरपा करो कहते बहुत उदास ।।

 

अधिकारी जितने बने सब अपने अधिकार ।

यसकेपी हम तस करें जस चाहें व्यवहार ।।

 

हम हैं राजा आज के औरन जानों दास ।

यसकेपी हम देश में करते अधिक सुपास ।।

 

नेता बनि भरि लीजिए यसकेपी भंडार ।

जनसेवा यह ही बड़ी बिना किए धिक्कार ।।

 

कोठी हो हर शहर में हर कोठी में कार ।

यसकेपी सेवा यही करत लगे नहि वार ।।

 

बिजली विल या फोन विल को नहि कोई भार ।

यसकेपी को का करी हम भारत सरकार ।।

 

सेवा से मेवा मिलै कही कहावत जात ।

जनसेवक सब जानते यसकेपी यह बात ।।

 

याते ही नेता लगे जनसेवा दिन रात ।

यसकेपी सब मिलि करैं पूत पतोहू नात ।।

 

नेता खोये होश सब खोज रहे बहु दाम ।

जनता की रक्षा करें यसकेपी के राम ।।

 

राम रखे यह देश है राम करैं कल्यान ।

यसकेपी सच ही कहा अपना देश महान ।।

--------

डॉ. एस. के. पाण्डेय,

समशापुर (उ. प्र.) ।

URL: https://sites.google.com/site/skpandeysriramkthavali/

ब्लॉग: http://www.sriramprabhukripa.blogspot.com/

*********

4 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------