रविवार, 4 मार्च 2012

हास्य कवि - मानस खत्री की हास्य कविताएँ

image

Engineer-आस्तु! (गीत)
लिखा-पढ़ा जो Science में Engineer ही बनना है,
हर माँ-बाप की बस यही तमन्ना है।

अपने कुल का झंडा सबसे ऊँचा करना है,
भाई-बहनों से भी अपने आगे बढ़ना है।
दसवीं कक्षा से ही होती शुरू है अपनी Battle,
विदेश जा कर ही आखिर सबको होना है Settle।
तकनीकी प्रगति में लिखना अगला पन्ना है,
हर माँ-बाप............।।

B-tech है या कोई Virus, या है कोई बीमारी,
एक Football के पीछे पड़ी है दुनिया सारी।
Injection, Tablet, Operation से इलाज होता है,
गलती से जो बने Patient, 4 साल रोता है।
अगल-बगल ने फैले Virus रहना चौकन्ना है,
हर माँ-बाप............।।

Mushroom से खुलते College शहर, गली, चौराहे,
I.I.T. में हो Selection, मन सबका यही चाहे।
Engineering का घोड़ा 55-60 वाले दौड़ाएं,
50 प्रतिशत वाले भी गड़ाएं हैं निगाहें।
चाहे जो भी हो, ताज Engineering का ही पहनना है,
हर माँ-बाप............।।

बादाम-अखरोट से होगा क्या Physics-Chemistry लगाओ,
Mathematics है महासंकट, हे बजरंगबली बचाओ।
कर लो जाप सभी तुम चाहे संगम में नहाना,
पप्पू होना पास, हमें भी Dairy-Milk खिलाना।
बिन Entertainment के जूस, Student सूखा-गन्ना है,
हर माँ-बाप............।।

सबकी कटोरी में Placement का सिक्का कैसे आए?
Displacement से बेहतर है, M.B.A. में घुस जाएं।
नोंक जिनकी अब भी हो Sharp, Mtech में रंग जमायेंगे,
सब बाकी ठहरे कम से कम Engineer तो कहलायेंगे।
बन्नी है Engineering, Science वाला बन्ना है,
हर माँ-बाप............।।

Engineering करि-करि जग मुआ Successful भया न कोए,
मन से काज जो भी किया सफलता चरणम् धोए।
हो Engineer सा हुनर तो ही इस ओर आना,
सिर्फ Degree वाले Engineer बन मत देश का नाम डुबाना।
जैसी प्रतिभा हो, वैसा ही अब बनना है,
हर माँ-बाप............।।

--

Manas Khatri, is the student of B.C.A. (National P.G. College, Lucknow). Popularly known as BROTHER INDIA, Manas is well-known for his art of

Poetry Writing and Presentation. Currently he is 19 yrs old and has been writing since last 10 yrs. He is an outstanding performer of Kavi-Sammelans and has performed on TV Channels. His poems are published in various Magazines. Manas Khatri is Hasya-Vyang Visesh. Beside this he also writes Short Story, Play, Geet, Gazal and Chand.

You Can Contact:

Manas Khatri,

Guru Kripa Sadan

H.I.G-31, Koshalpuri Coloney, Phase-1

Faizabad(U.P.)

E-Mail- manasfaizabad@rediffmail.com

3 blogger-facebook:

  1. पढ़ा है मानस को और अच्छा लगता रहा है जब भी पढ़ा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. Isi tarah likhte rahana meri yahi tammna hai
    Kavi ban jao desh ke lekin isse aage badna hai
    Karo yashgan desh dharti samaj aur roti ka
    liken khyal rakhana shadi bhi ho jay kisi garib ke beta beti ka
    lekin kewal likhna hi nahin hai kuch krke bhi dhikha hai
    Meri to Manas bas yahi tammna.

    rkantbhardwaj@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------