रविवार, 25 मार्च 2012

देवेन्द्र कुमार पाठक की चैतहर कविताई

नवगीत/चले चैतुए

~ - ~ - ~

अपने घर-गाँव छोड़ चले चैतुए !

कब तक भटकाएगी ? पगडण्डी पेट की ,

साँसोँ का कर्ज़भार छाती पर लादे :

जाने किस ठौर-ठाँव करेँगे बसेरे !

 

बड़े भागवाले किस ख़ेतिहर के ख़ेत की

फ़सल की कटाई की उम्मीदेँ बाँधे ,

खुले गगन तले कहीँ डालेँगे डेरे ;

पुरखोँ की धरती की ममता के पिंजरोँ मेँ

लगते चौमास लौट आएँगे ये सुए !

 

सोचेँगे जीने की और कोई नई जुगत ,

या बँधुआ हलवाही मेँ कस-फँस जाएँगे ,

दुर्गम दुर्दिन पर्वत लाँघेँगे जैसे-तैसे ;

कड़वे मीठे कितने अनुभव पल भोग भुगत ,

नए सबक सिक्के मध मेँ गँठिये लाएँगे ,

बतियाएँगे बीते बंजारे दिन कैसे

--

0 प्रतिक्रिया/समीक्षा/टीप:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.