गुरुवार, 8 मार्च 2012

गंगा प्रसाद शर्मा 'गुणशेखर' की होली विशेष दोहे

image

जाति,धर्म ,भाषाएँ,बोली, सारे भेद भुलाती होली
सबको गले लगाती आती प्रेम का पाठ पढ़ाती होली
आपको होली की मंगलकामनाएँ!


मँहगाई के भार से, चलना बहुत मुहाल।
फ़ीका है इस बार भी रंग, अबीर, गुलाल।।


जहाँ सो गया वहीं घर, जहाँ बसा वह देश।
किसी गरीब का कब हुआ ,अपना देश, प्रदेश ।।


फागुन को ऐसी चढ़ी, गाढ़ी भंग-तरंग।
मार रहा पिचकारियाँ, भर-भर नाना रंग।।


मँहगाई है होलिका, और आय प्रह्लाद ।
बची होलिका, जल गए आनंद और आह्लाद।।


शीत लहर कब की गई,छाई मलय बयार ।
घर-घर फागुन बाँटता ,राग,फाग औ प्यार।।


माना होली प्रेम का, रंगों का त्योहार।
किंतु बदलना है हमें, इन सब का व्यवहार।।


भरे गले तक प्रेम को , होली का त्योहार।
हँसी-खुशी पहना रहा, नव गुलाब का हार।।


कहीं न कोई दुखी हो ,रहे न रंच मलाल।
फागुन ऋतु का डाकिया, बाँटे रंग गुलाल।।


पहले जो बजते रहे,तासा,ढोल,मृदंग।
ना तो वैसे साज़ हैं,और न वैसे ढंग।


तन ही तन झूमा किए, मन की लुप्त तरंग।
रंग गए खेले बहुत, चढ़े न कुछ भी अंग।।

--

(चित्र - मुखौटा कलाकृति - साभार नव सिद्धार्थ आर्ट ग्रुप)

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------