कृष्‍ण कुमार चन्‍द्रा का होली गीत

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

होली गीत

बिना रंग लगाये मैं हो गया लाल

तेरी आंखों का है ये कमाल गोरी

फागुन मदमस्‍त हुआ, आया मधुमास रे

मन की अगन से ही, खिलता पलाश रे

भौंरों ने बदली है चाल गोरी...

तेरी आंखों का है ये कमाल गोरी

मौसम मधुशाला है, महुआ गिलास में

फूलों की खुशबू है, उजले लिबास में

होठों की लाली सम्‍भाल गोरी...

तेरी आंखों का है ये कमाल गोरी

तू मेरी मीरा है, तू ही तो राधा

जीवन भर मैंने तो, तुमको ही साधा

मैं ही हूँ तेरा नंदलाल गोरी...

तेरी आंखों का है ये कमाल गोरी

कृष्‍ण कुमार चन्‍द्रा

--

(चित्र - मुखौटा कलाकृति - साभार नव सिद्धार्थ आर्ट ग्रुप)

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "कृष्‍ण कुमार चन्‍द्रा का होली गीत"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.