गुरुवार, 5 अप्रैल 2012

यशवन्‍त कोठारी का व्यंग्य : सरकार के सलाहकार

clip_image002

सरकार है तो सलाहकार भी है। ऐसी किसी सरकार की कल्‍पना नहीं की जा सकती है जिसके पास सलाहकार नहीं हो। वैसे भी सरकारों के पास सलाहकारों की कभी कमी नहीं रहती। किसी ने ठीक ही कहा है सलाह मुफ्‌त और बिना मांगे मिलती है। सलाहकार यदि सरकारी हो तो क्‍या कहने ? वो सरकार को हर काम के लिए सलाह देने को तत्‍पर रहता है। वैसे भी सलाहकारों का काम सरकारों को सलाह देकर डुबोना ही होता है। आपने कभी सोचा है कि सरकार के पास कितने प्रकार के सलाहकार हो सकते हैं ? सरकार के पास आर्थिक सलाहकार, राजनैतिक सलाहकार, रक्षा सलाहकार, मिडिया सलाहकार, संस्‍कृति सलाहकार यहाँ तक कि मेडिकल सलाहकार और व्‍यायाम सलाहकार भी होते हैं, ये सभी सलाहकार सरकार को विभिन्‍न विषयों पर सलाह देते रहते हैं और अक्‍सर ये सलाहें एक दूसरे के विपरीत होती है।

आर्थिक सलाहकार की सलाह को राजनैतिक सलाहकार काट देता है और राजनैतिक सलाहकार की राय को मीडिया सलाहकार जनता में गलत संदेश के नाम से अस्‍वीकृत कर देता है सलाह देने वाले सलाह देकर चैन की बांसुरी बजाने लग जाते हैं और सरकार की जान सासंत में पड़ जाती है। लगभग सभी सलाहकार चिन्‍तक, दार्शनिक, बुद्धिजीवी की छवि वाले होते हैं। ये सलाहकार मंहगी शराब, मंहगे चश्‍मे, फटी जीन्‍स, बढ़ी हुई दाढ़ी, और बगल में लड़की लेकर घूमते रहते हैं। चिन्‍तक दार्शनिक मुद्रा के कारण आम जनता इन सलाहकारों से दूर ही रहती है। कभी कदा ये सलाहकार जनता की सलाह पर बदल दिये जाते हैं। वास्‍तव में सलाहकार असम्‍पादित फिल्‍मी अंश की तरह होते हैं जो कभी भी रद्‌दी की टोकरी की शोभा बढ़ा सकते हे। लगभग सभी सलाहकार किसी न किसी सरकारी समिति में घुस जाते हैं और उस समिति को डुबोने में लग जाते हैं। सलाहकार समितियों में विशेषज्ञ होते हैं, सरकारी अधिकारी होते हैं और ये अधिकारी हर सलाह को नियमों के विपरीत बता देते हैं।

मुझे एक सलाहकार ने बताया कि राज्‍य सरकारों में उपसचिव और केन्‍द्र सरकार में संयुक्‍त सचिव विकास व योजनाओं में सबसे बड़ा रोड़ा होता है जब कि सचिवों का मानना है कि जो काम नहीं करना हो उसे सलाहकार समितियों के हवाले कर दें। सब गुड़ गोबर हो जायेगा।

सलाहकार चिन्‍तक की मुद्रा में सरकार के पास जाता है और अपनी स्‍वयं सेवी संस्‍था की रपट के आधार पर अनुदान मांगता है वो अनुदान के आधार पर सलाह देता है। चुनाव व संक्रमण काल में सलाहकारों का महत्‍व बहुत बढ़ जाता हे। हर सलाहकार मानता है कि उसी की सलाह से चुनाव जीता जा सकता है, मगर चुनाव के परिणाम आते ही सब टांय टांय फिस्‍स हो जाता है। जब सरकार संकट में होती है तो सलाहकार संकट से उबारने के रास्‍ते बताता है, मगर ये रास्‍ते सरकार को ओर भी गहरे संकट में डाल देते हैं।

कुल मिलाकर सलाहकार एक जलसाघर बनाते हैं और उसमें रम जाते हैं। सलाहकार विशेषज्ञ होते हैं और सरकार को विषय की जानकारी देते हैं, मगर ये जानकारी सरकारी फाइलों, आकड़ों की समझ में नहीं आती श्रेष्ठतम सलाह के आधार पर बनी श्रेष्ठ योजना भी सरकारी मकडजाल में फंस कर रह जाती है। आज स्‍थिति ये है कि सरकारी जलसाघर में प्रेमचन्‍द के बजाय चेतन भगतों का बोलबाला है। सरकार को गालिब नहीं गुलजार चाहिये। कबीर-तुलसी नहीं रहीम चाहिये। आईने- अकबरी लिखने वाले इतिहासकार चाहिये। सरकारी सलाहकार बनने के लिए विद्वान, चिन्‍तक, दार्शनिक होना काफी नहीं है। आपके पास राजनैतिक आकाओं से जुडे होने का प्रमाण पत्र भी चाहिये। आपके पास एक विचार नहीं विचारधारा का मुखैटा चाहिये, एक प्रभामण्‍डल चाहिये, जिसकी चमक, दमक में आपका चेहरा सरकार को नजर आये। सलाहकार निर्वस्‍त्र सत्‍य को भी नकार सकता है और आवरण युक्‍त झूठ को सत्‍य बता कर परोस सकता है। सलाहकार गधे की मौत के बाद आदमी की श्‍शवयात्रा निकालने की तजबीज जानता है ओर उसे अमल में ला सकता है। जब रोम जलता है सलाहकार बॉसुरी बजाता है। सता के आस पास मण्‍डराने वाले सलाहकार राजधानी के गलियारों में सत्‍ता की दलाली करते रहते हैं।

वैसे भी सलाहकार चेम्‍बर प्रक्‍टिस करने में विश्‍वास रखते हैं। सलाहकारों की सलाहे अन्‍धों के हाथी की तरह होती है, जिसे अलग अलग तरह से देखा समझा भोगा जा सकता है। कुछ सलाहकार हर सरकार को सलाह देने की हिम्‍मत रखते हैं। फिर सरकार का कुछ भी हो। इतिहास गवाह है कि कई सल्‍तनतें केवल गलत सलाहों के कारण डूब गई। आप पूछ सकते हैं सरकारों को सलाहकारों की जरुरत क्‍यों पड़ती है तो भाई साहब सत्‍ता के ताबूत में आखिरी कील जड़ने वाले भी तो चाहिये, ये सलाहकार यहीं काम काफी अच्‍छे से कर लेते हैं। मगर प्रजातन्‍त्र हर बार मजबूत होता है क्‍योंकि वोट देने वाला किसी सलाह पर विश्‍वास नहीं करता वो तो मन मरजी का मालिक है। फोन की घंटी बज रही है शायद किसी को सलाह की जरुरत है। आमीन!

0 0 0

यशवन्‍त कोठारी, 86, लक्ष्‍मी नगर, ब्रह्मपुरी बाहर, जयपुर - 2, फोन - 2670596

ykkothari3@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------