एस. के. पाण्डेय की लघुकथा - भाग्य

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

भाग्य

शांती रंजन बाबू के घर गई थी। वहाँ उसने देखा कि उनका बेटा पिल्ले को साबुन से नहला रहा है। वह खड़ी होकर देखती रही। साबुन की महक उसके नाक से टकरा रही थी। नहलाने के बाद उसने एक अच्छी रूमाल से पिल्ले का शरीर पोछकर सुखाया। फिर महकता हुआ कोई तेल लेकर आया और मालिश करने लगा। मालिश करने के बाद दूध लाया और पिल्ला पूँछ हिला-हिलाकर दूध पीने लगा।

यह सब देखकर वह रुआँसी सी हो गई। और वहाँ से भागकर अपने घर पहुँची और अपने सोते हुए बेटे को, जिसे चावल का धोवन पिलाकर घर से निकली थी, देखकर फूट-फूट कर रोने लगी। वह सोचती रही कि सुख-दुःख पूर्व जन्मों के कर्म यानी भाग्य से ही मिलता है। भाग्य से ही तो नीच योनि में जनमकर भी एक कुत्ता दूध पीकर जीता है और राजसी सुख भोगता है। और मनुष्य जैसे उच्च योनि में जनमकर भी मेरे बेटे को दुःख ही दुःख है तथा दूध तो दूर चावल का मांड भी मुश्किल से नसीब होता है।

---------

डॉ. एस. के. पाण्डेय,

समशापुर (उ.प्र.)।

URL1: http://sites.google.com/site/skpvinyavali/

ब्लॉग: http://www.sriramprabhukripa.blogspot.com/

*********

(चित्र - मीतूवर्मा की कलाकृति)

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

1 टिप्पणी "एस. के. पाण्डेय की लघुकथा - भाग्य"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.