अर्जुन राठौर की कविता - पहाड़

पहाड़

हाड़ सदियों से खड़े हैं 

अपनी जगह एक जैसे 

पहाड़ कभी भी रातों रात 

खड़े नहीं होते / पहाड़ों के पहाड़ 

बनने के पीछे एक लम्बा सिलसिला होता है 

जिस तरह से पहाड़ एकाएक नहीं बनते / ठीक 

डसी तरह पहाड़ों से लगी खाई भी एकाएक 

खाई नहीं बनती / पहाड़ और खाई एक दूसरे के

पूरक होते हैं / खाई के बिना किसी पहाड़ के बारे 

में सोचा भी नहीं जा सकता 

पहाड़ अपनी उंचाई पर गर्व करते हैं 

पहाड़ों का यह गर्व / पीढ़ी दर पीढ़ी 

कायम रहता है / पहाड़ अपनी ओर से 

कुछ नहीं बोलते / कुछ नहीं करते 

वे तो बस खड़े रहते हैं 

अविचल/अपनी जगह/ एक जैसे 

--

0 टिप्पणी "अर्जुन राठौर की कविता - पहाड़"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.